नीरज कुमार / खगड़िया
बिहार में एक ऐसा यूनिवर्सिटी भी हैं जहां आत्मदाह की धमकी देने के बाद रिजल्ट सुधारा जाता है। जी हां, हम बात कर रहे हैं भागलपुर के तिलकामांझी यूनिवर्सिटी की जहां कुछ ऐसा ही वाक्या पेश आया है। कोशी कॉलेज खगडिया के छात्र और हॉकी कोच विकाश कुमार का दो साल से अटक हुआ रिजल्ट भागलपुर विवि आत्मदाह की धमकी के बाद सुधारने को तैयार हुआ। गुरुवार को विकाश विवि पहुंचा और परीक्षा नियंत्रक, प्रॉक्टर से लेकर अन्य पदाधिकारियों से मिला। फिर आत्मदाह की धमकी दी तो उसे प्रतिकुलपति से मिलवाया गया। विकाश ने बताया की उसके स्नातक पार्ट एक और तीन का रिजल्ट क्लियर है केवल पार्ट दो में ऑब्जेक्टिव प्रश्नों का मूल्यांकन नहीं किये जाने से वह दो साल से रिजल्ट के लिए विवि का चक्कर लगा रहा है। वह रायपुर स्पोर्ट्स कॉलेज में अभी पढ़ रहा है जहाँ से उसे रिजल्ट नहीं रहने के कारण हटाने की बात कही जा रही है। ऐसा हुआ तो वह आत्मदाह कर लेगा। इसके बाद प्रतिकुलपति ने परीक्षा नियंत्रक को उसका रिजल्ट सुधारने के लिए फौरन निर्देश दिया।

Post A Comment:

0 comments: