मुंबई। पुलिस ने मुंबई के गोरेगांव के नेस्को परिसर में चोरी हुए लाखों के हीरों को सिर्फ 3 घंटों में खोज निकाला। दो चीनी नागरिकों ने सोमवार को गोरेगांव में चल रही रत्नों की प्रदर्शनी से 34 लाख रुपये के हीरे चुरा लिए थे। ये चीनी हवाई अड्डे पर तीन घंटे के भीतर पकड़े गए, जहां वे दिल्ली होते हुए हांगकांग जाने वाली प्‍लाइट की प्रतीक्षा कर रहे थे।

गिरफ्तार किए गए चीनी नागरिकों के पास से चुराए गए हीरे, मोबाइल और चीनी पासपोर्ट जब्‍त किए हैं। दोनों पर आईपीसी की धारा 379, 420 और 34 के तहत मामला दर्ज किया है। कोर्ट ने इन्हें 7 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया है। इस मामले में पुलिस और अन्‍य विभागों के बीच गजब का समन्‍वय देखने को मिला, जिसके परिणामस्‍वरूप महज 3 घंटे में चोर सलाखों के पीछे पहुंच गए। 

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के डायरेक्टर जनरल ओपी सिंह ने बताया, 'यह भारत की बहुत प्रतिष्ठित प्रदर्शनी है, इसलिए चोरी हुए हीरे की वसूली बहुत महत्वपूर्ण थी।' अडिशनल सीपी प्रधान के अनुसार, गोरेगांव स्थित नेस्को परिसर में 27 से 31 जुलाई तक सोने और हीरे के गहनों की एक अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी लगी थी। 31 जुलाई को वनराई पुलिस में एक स्टॉल धारक ने मामला दर्ज कराया कि करीब 34 लाख रुपये कीमत का 5.43 कैरट का एक हीरा चोरी हो गया है।

शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने नेस्‍को परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले, जिसमें दो चीनी नागरिक संदिग्ध दिखे। पुलिस ने इसकी सूचना एयरपोर्ट अधिकारी और सीआईएसएफ को दी। इसके बाद दोनों चीनी नागरिकों को एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया गया। हिरासत में लेकर जब जांच की गई तो इनके पास से 5 एमएम की एक शैंपू बोतल मिली, जिसमें चुराए गए हीरे रखे हुए थे। 

पुलिस के लिए सबसे बड़ी मुश्किल चीनी नागरिकों को गिरफ्तार करने के बाद सामने आई। दरअसल, पुलिसवालों को चीनी भाषा नहीं आती थी, लेकिन हिरासत में लिए गए चीनी नागरिक अपनी भाषा में ही बात कर रहे थे। ऐसे में एक दुभाषिए की मदद से पुलिस ने करीब 8 घंटे तक दोनों से पूछताछ की, जिसके बाद इन्होंने गुर्म कबूल कर लिया।

Post A Comment:

0 comments: