vishnu dayal: ब्यूरो चीफ , फरीदाबाद 
.फरीदाबाद 29/11/2017 : सन्तोष सैनी: झज्जर, हरियाणा अब तक । बहादुरगढ़ में कल नया गांव बाईपास पर सडक़ हादसे में आईटीआई जा रहे 4 स्टूडेंट्स गांव गुभाना के दीपक पुत्र दिलबाग, साहिल पुत्र रामपाल, विशाल और कृष्णपाल की दर्दनाक मौत हो गई। बाइक पर सवार 3 स्टूडेंट्स चौथे से सडक़ किनारे खड़े हो बात कर रहे थे। अचानक एक तेज रफ्तार डंपर ने इन्हें चपेट में ले लिया। 3 की मौके पर ही मौत हो गई जबकि चौथे ने पीजीआई रोहतक में दम तोड़ दिया। घटना के बाद गुस्साए लोगों ने नेशनल हाईवे नंबर 9 को जाम कर दिया। ट्रैक्टर-ट्रॉलियों की हवा निकाल दी, जिसके चलते वाहनों की लाइन लग गई। एक घंटे तक सडक़ लाशों के बीच पड़ा कराहता रहा घायल हादसे में मारे गए बच्चों की पहचान गांव गुभाना के दीपक पुत्र दिलबाग, साहिल पुत्र रामपाल, विशाल और कृष्णपाल के रूप में हुई है। ये सभी आईटीआई के छात्र थे। पता चला है कि सुबह दीपक, साहिल और विशाल आईटीआई जा रहे थे। रास्ते बमें इन्हें कृष्णपाल मिल गया। जिस वक्त ये चारों नया गांव बाईपास चौक पर सडक़ किनारे खड़े बात कर रहे थे, अचानक रोड़ी डस्ट को उतारने के बाद तेज रफ्तार से सडक़ पर चढ़ रहे एक डंपर ने इन्हें चपेट में ले लिया।

घटना में दीपक, कृष्णपाल और विशाल की मौके पर ही मौत हो गई जबकि साहिल घायल हो गया। उसे पहले ट्रॉमा सेंट्रर में भर्ती करवाया गया लेकिन यहां से हालत को देखते हुए पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया गया। बताया जाता है कि घटना के तुरंत बाद डंपर चालक मौके से फरार हो गया, वहीं आसपास के लोगों ने पुलिस के इमरजेंसी नंबर पर इसकी सूचना दी। लोगों का आरोप है कि सूचना के बाद करीब एक घंटे बाद पुलिस मौके पर पहुंची और तब तक तीनों स्टूडेंट्स की डेड बॉडी व घायल साहिल वहीं पड़े रहे। देखते ही देखते नेशनल हाईवे नंबर 9 पर स्थित नया गांव चौक पर भीड़ उमडऩे लग गई और गुस्साए लोगों ने रोड जाम कर दिया। लोगों ने लेट लतीफी के बकारण पुलिस कर्मचारियों के साथ धक्का-मुक्की की है, यहां से गुजरने वाले ट्रैक्टर-ट्रॉलियों और दूसरे कई वाहनों की हवा तक निकाल दी।
गुस्साए लोगों का कहना है कि उन्होंने 100 नंबर पर कई बार फोन भी किया लेकिन कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। सडक़ सुरक्षा संगठन के सदस्य ने भी सदर थाने के एसएचओ को फोन किया लेकिन किसी ने नहीं उठाया। इसके बाद यातायात पुलिस निरीक्षक को फोन किया तो उन्होंने भी मौके पर आने की बजाए एसएचओ का दूसरा नम्बर दे दिया। पुलिस चालान के लिए तो हर जगह पहुंच जाती है लेकिन हादसे में घायल और मृतकों को अस्पताल ले जाने के लिए नहीं आती है। लोगों का गुस्सा इस बात को लेकर भी है कि बहादुरगढ़ में रोड़ी डस्ट से भरे अवैध डंपर काफी संख्या में चल रहे हैं। तेज रफ्तार डंपरों को रोकने के लिए पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती। इसी वजह से आज का हादसा हुआहै। फिलहाल पुलिस कार्रवाई में जुटी हुई है।

Post A Comment:

0 comments: