Image result for up pollution images lucknow


दिल्ली के बाद अब यूपी के शहरों की हवा भी जहरीली हो चुकी है। मंगलवार को मुरादाबाद की हवा में प्रदूषण स्तर दिल्ली से अधिक रहा, जबकि बुधवार को लखनऊ, मुरादाबाद और नोएडा का वायु प्रदूषण स्तर दिल्ली के आसपास आंका गया।
वैज्ञानिकों का मानना है कि मौसम में आए बदलाव और स्थिर हुई हवा ने पूरे प्रदेश को वायु प्रदूषण और धुंध की चपेट में ला दिया है। हवा के स्थिर होने की वजह से प्रदूषण बढ़ाने वाले धूल और हानिकारक गैसों के कण छंट नहीं पा रहे हैं। ऐसे में वैज्ञानिक अब सेहतमंद लोगों के भी बीमार होने की आशंका जता रहे हैं।

बुधवार को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) रिपोर्ट में देश में सबसे अधिक प्रदूषण दिल्ली में रहा। वहीं यूपी में नोएडा वायु प्रदूषण के मामले में तीसरे नंबर पर रहा। 
सीपीसीबी के मुताबिक यूपी में एक्यूआई स्तर 400 से अधिक वाले तीन शहर हैं। इनमें नोएडा (469), मुरादाबाद (439), लखनऊ (430) शामिल हैं। इनके अलावा आगरा (394) और गाजियाबाद (372) भी बहुत खराब हवा की श्रेणी में आने के बाद अब 400 एक्यूआई के नजदीक पहुंच चुके हैं।
एक्यूआई 400 से ऊपर पहुंचने की वजह से यूपी के तीन बड़े शहरों की हवा इस समय खतरनाक हो चुकी है। वैज्ञानिकों का मानना है कि यह हवा सामान्य व्यक्ति को भी संपर्क में लंबे समय तक रहने पर बीमार बना सकती है। इसमें आंखों में जलन और सांस की बीमारी से लेकर हाइपरटेंशन, उच्च रक्तचाप जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। पिछले दो दिनों से दिल्ली और एनसीआर के अस्पतालों में सांस की तकलीफ वाले मरीजों की तादाद तेजी से बढ़ी है। डॉक्टरों का कहना है कि कुछ मरीजों में जीवन के लिए खतरनाक स्थिति भी बन सकती है। अस्पतालों में अस्थमा, क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसऑर्डर (सीओपीडी) और हृदय रोग के मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

Post A Comment:

0 comments: