Vishnu Dayal ब्यूरो चीफ , फरीदाबाद 


फरीदाबाद 07/12/2017: भारतवर्ष में एक कहावत है की डॉक्टर भगवान का दूसरा रूप होता है | परन्तु आज-कल के इस युग में कुछ नामी-ग्रामी अस्पतालो ने इसे एक मात्र बेशर्मी का धंधा ही बना दिया है |इसका जीता जगता उदाहरण हरियाणा के गुरुग्राम स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल में हुई घटना को ही ले लो | जहा जिन्दा नवजात बच्ची को इन डिग्रीधारी डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था | अब इस केस में नया एक नया मोड़ आ गया है। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल में हुई बच्ची की मौत को लापरवाही नहीं मर्डर बता अस्पताल के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज करवाने को कहा इस कारण अस्पताल वालों के होश उड़े हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक़ अस्पताल अब बच्ची के पिता को मोटी रकम देने की लालच देकर मामले को रफा दफा करवाना चाहता है। अस्पताल ने बच्ची के पिता को कुछ कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए 25 लाख का ऑफर दिया है। अस्पताल का एक बड़ा अधिकारी बच्ची के पिता के पास 10 लाख 37 हजार 889 रूपये का चेक लेकर पहुंचा था। बच्ची के पिता जयंत सिंह ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को ये सब बताया है। मालुम को कि डेंगू के इलाज के लिए फोर्टिस वालों ने 15 दिन में जयंत से 18 लाख ले लिया और बच्ची की मौत हो गई तो कफ़न का भी पैसा मांग रहे थे|

Post A Comment:

0 comments: