Vishnu dayal ब्यूरो चीफ , फरीदाबाद 

चण्डीगढ़, 3 दिसंबर- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बिहार में रहने वाले प्रवासी हरियाणावासियों तथा अन्य उद्योगपतियों को हरियाणा में उद्योग स्थापित करने के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि यदि कोई निवेशक हरियाणा में 500 करोड़ रूपए से ज्यादा का निवेश करता है तो उसको ऑन-डिमांड सुविधाएं दी जाएगी।
उन्होंने आज पटना में पटना और बिहार के दूसरे क्षेत्रों में रहने वाले हरियाणावासियों से प्रवासी हरियाणा सम्मेलन के माध्यम से मुलाकात की और सीधा संवाद किया। उन्होंने बिहार के लोगों को मेहनतकश बताते हुए कहा कि दोनों राज्य कृषि के क्षेत्र में किसानों को एक-दूसरे के प्रदेश का भ्रमण करवा सकते हैं।
उन्होंने कहा कि हरियाणा और बिहार का बहुत पुराना रिश्ता है और मैं चाहता हूं कि दोनों प्रदेश खूब तरक्की करें।
श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा ने प्रदेश का संतुलित औद्योगिक विकास सुनिश्चित करने के लिए नई उद्यम प्रोत्साहन नीति, 2015 लागू की है जिसमें उद्यमियों के लिए उदार सुविधाएं देने का प्रावधान किया गया है। हरियाणा में राज्य और जिला स्तर पर 30 दिन के अंदर-अंदर स्वीकृतियां प्रदान करने हेतु सिंगल-रूफ-सिस्टम यानि एक ही छत के नीचे सभी औपचारिकताएं पूरा करने की प्रणाली शुरू की गई है। विभागाध्यक्ष के अनुमोदन के बिना कोई आकस्मिक निरीक्षण नहीं करने का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा, कम्पनियों व निवेशकों की सुविधा के लिए स्व-प्रमाणीकरण और तृतीय पक्ष निरीक्षण योजना शुरू की गई है। उद्योगों की लम्बित शिकायतों के समाधान के लिए तीन स्तरीय ऑनलाइन शिकायत निवारण तंत्र स्थापित किया गया है।
उन्होंने पिछले तीन साल में हरियाणा राज्य में हुई प्रगति के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि जब हमने प्रदेश में मुख्यमंत्री के तौर पर जनसेवा की बागडोर सम्भाली थी उस समय हरियाणा इज-ऑफ-डुइंग बिजनेस में देश भर में 14वें स्थान पर था और आज हम 6वें स्थान पर हैं। उत्तरी भारत में तो हम पहले स्थान पर हैं। हरियाणा आज क्रेन्स, एक्सक्वावेटर, कारों, दुपहिया वाहनों, जूतों, वैज्ञानिक उपकरणों के निर्माण में अग्रणी है। हरियाणा की जीडीपी विकास दर राष्ट्रीय औसत से अधिक है। हरियाणा का जीडीपी की वार्षिक वृद्धि दर सात प्रतिशत से अधिक है। भारत के बड़े राज्यों में हरियाणा की प्रति व्यक्ति आय सबसे ज्यादा है। हरियाणा में सुविकसित औद्योगिक सम्पदाएं हैं। आवास की बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हैं। विश्व स्तर के शैक्षणिक संस्थान हैं। उच्चकोटि की स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हैं। हवाई, रेल और सडक़ मार्गों के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों से बेहतर कनेक्टिविटी है। प्रदेश में सुदृढ़ कानून व्यवस्था है। इन सुविधाओं के चलते आज हरियाणा पूंजी निवेश के लिए देश-विदेश के उद्यमियों की पहली पसंद बन गया है। आज हरियाणा अवसरों, आशाओं, शांति और समृद्धि की धरा के रूप में स्थापित हो रहा है।
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने विकास के पथ पर आगे बढ रहे हरियाणा राज्य की उपलब्धियों को विस्तार से बताया और प्रवासी हरियाणावासियों को अपनी जड़ों से जुड़े रहने का आहवान किया। उन्होंने बताया कि प्रवासी हरियाणवी अर्थात प्रदेश में जाकर व्यवसाय करने वाले लोग अपने मूल गांव के विकास में योगदान देकर अपना जुड़ाव रख सकते हैं। उन्होंने बताया कि सांसद आदर्श ग्राम योजना की तर्ज पर हरियाणा सरकार ने विधायक आदर्श ग्राम योजना तथा स्वप्रेरित आदर्श ग्राम योजना भी शुरू की हैं। स्वप्रेरित आदर्श ग्राम योजना में प्रवासी हरियाणवी अपने गांव के विकास में अपना योगदान दे सकते हैं।
उन्होंने कृषि व बागवानी के क्षेत्र में हरियाणा राज्य द्वारा की गई प्रगति व बदलाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हरियाणा के सरकारी अध्यापकों के लिए बनाई गई अध्यापक स्थानांतरण नीति एक अनूठी नीति है जिसका कई दूसरे प्रदेश अब अनुकरण करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने बेरोजगार युवाओं के लिए शुरू की गई सक्षम युवा योजना के बारे में बताया कि पोस्टग्रेजुएट युवाओं को 9000 रूपए प्रति माह दिए जाते हैं जिसमें युवा को उसके कौशल के अुनसार 100 घंटे का काम भी दिया जाता है। उन्होंने बताया कि हरियाणा देश का पहला राज्य है जिसमें महिला थाना खोले गए हैं और हर 20 किलोमीटर के दायरे में एक महिला कालेज खोला जा रहा है।
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने अपने राज्य में लिंगानुपात में हुए सुधार के बारे में बताया कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा के लोगों से लड़कियों के अनुपात को सुधार करने का आहवान किया था जिस पर हरियाणा सरकार ने आम जन के सहयोग से इसमें बहुत बड़ा सुधारात्मक कदम उठाया जिसकी बदौलत अब यह अनुपात 840 से बढकर 937 तक पहुंच गया है।
प्रवासी हरियाणवियों के साथ सीधा संवाद के दौरान उन्होंने बताया कि हरियाणा के फरीदाबाद शहर में बिहार के लोगों की बहुत बडी संख्या है और इस बार उन्होंने छठ पूजा का त्यौहार भी इन लोगों के साथ मनाया था। इस कार्यक्रम में करीब 25000 लोग शामिल हुए थे। उन लोगों की मांग पर अब छठ पूजा के लिए घाट तैयार करवाने, गलियों व बिजली-पानी समेत अन्य आवश्यक चीजों की सभी मांगों को पूरा करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।

Post A Comment:

0 comments: