Vishnu Dayal ब्यूरो चीफ , फरीदाबाद 


फरीदाबाद 12 दिसम्बर 2017 : दिल्ली के मैक्स अस्पताल पर बड़ा आरोप लगा तो अस्पताल का लाइसेंस रद्द और हरियाणा के गुरुग्राम स्थित फोर्टिस अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगा तो उसके खिलाफ भी क्रिमिनल केस दर्ज और फिर कल दिल्ली के बीएलके अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगा तो अब गुरुग्राम के पाक अस्पताल पर भी बड़ी लापरवाही का आरोप लगा है।। एनसीआर में तमाम बड़े निजी अस्पताल हैं और आने वाले दिनों में कई और अस्पताल आरोपों के लपेटे में आ सकते हैं। बसई गांव में रहने वाले एक व्यक्ति ने गुरुग्राम के थाना सदर क्षेत्र में स्थित पार्क अस्पताल के डॉक्टरों को बेटे की मौत का जिम्मेदार बता कुछ देर तक हंगामा कर पुलिस को शिकायत दी। शिकायत कर्ता का कहना है कि दस्त से पीड़ित 11 साल के बच्चे को मंगलवार शाम अस्पताल में दाखिल कराया था। बच्चे को डॉक्टर ने रात करीब तीन बजे नींद आने के लिए नशीली दवा का इंजेक्शन दे दिया। जिसके कुछ देर बाद ही बच्चे ने दम तोड़ दिया। शिकायत के बाद सदर थाना प्रभारी ने बच्चे का शव का पोस्टमार्टम दो डाक्टरों के पैनल से कराने के बाद परिजनों को सौ दिया। पोस्टमार्टम से यह नहीं स्पष्ट हो सका की बच्चे की मौत की वजह क्या थी। लिहाजा बिसरा जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा गया है।
बच्चे की पिता गंगा विष्णु ने बताया कि, 20 नवंबर को उनके बेटे की तबियत खराब हुई, जिसके इलाज के लिए वो सेक्टर 10 के सरकारी हॉस्पिटल में गए। सरकारी अस्पताल के डाक्टरों ने कई प्रकार का टेस्ट करवाया टेस्ट का रिपोर्ट ठीक रही। लेकिन उलटी और हल्का बुखार दस्त होने के कारण 21 नवंबर की शाम को पार्क हॉस्पिटल लेकर पहुंचे, यहां भी डाक्टरों ने कई प्रकार का टेस्ट करवाया। इस दौरान बच्चा उल्टियां कर रहा था लेकिन सुबह जैसे ही बच्चे को नींद के इंजेक्शन के साथ में मेडाजोलम इंजेक्शन लगाया।
गंगा विष्णु ने बताया कि, इंजेक्शन लगाने के कुछ ही देर बाद बच्चे की मौत हो गई। परिजन डॉक्टर के सामने चीखते रहे चिल्लाते रहे लेकिन उस वक्त कोई डॉक्टर नहीं आया। थोड़ी देर बाद डाक्टरों ने बच्चो को मृत घाोषित कर दिया । परिजनों की शिकायत पर इस मामले की जांच के लिए एक कमिटी बनाई गई है। कमिटी निष्पक्ष जांच कर रही है कुछ दिन बाद कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद हॉस्पिटल प्रबंध या कोई भी इस लापरवाही में दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।मृतक बच्चा दो बहनों का इकलौता भाई था अब बहनों का रो-रोकर बुरा हाल है वहीं बच्चे की माँ और पिता खून के आंसू बहा रहे हैं।

Post A Comment:

0 comments: