ब्यूरो चीफ , फरीदाबाद


फरीदाबाद  01/01/2018:  फरीदाबाद के सेक्टर 37 थाने के समीप बाईपास रोड सेहतपुर बांध पुल पर सीपी साहब के दिशा निर्देश पर ड्रिंक एंड ड्राइव की चेकिंग चल रही थी वहां पर एनसीआर न्यूज़पेपर का पत्रकार राजकुमार भी अपनी कवरेज में लगा हुआ था पत्रकार के कैमरे में कुछ भ्रष्ट पुलिस कर्मी रिश्वत लेते हुए हैं कैद हो जाते हैं उनमें से एक भ्रष्ट पुलिसकर्मी ने उन्हें रिकॉर्डिंग करते हुए देख लिया है जिस कैमरे से राजकुमार कवरेज कर रहा है उसको भ्रष्ट पुलिस वाले छीन कर उसका डाटा डिलीट कर दिया एवं पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार और मारपीट करने लगा पत्रकार से उसका मोबाइल छीन कर उसे फॉर्मेट कर दिया। वहां पर उपस्थित SI पत्रकार को भली भांति जानता था लेकिन वह मूकदर्शक बन कर देखता रहा पत्रकार विनती करता रहा कि मैं रिपोर्टर हूं आप जानते हो हालांकि पत्रकार ने अपना आइडेंटी कार्ड भी उन्हें दिखाया लेकिन SI अनसुना कर दिया पत्रकार को समझते देर नहीं लगी कि इस अवैध उगाही  में  SI का भी हाथ है जो कि मामले को मारपीट करके डरा-धमकाकर खत्म करना चाह रहा था. पत्रकार ने मौके पर 100 नंबर को कॉल कर दी एवं सीनियर पुलिस अधिकारियों को भी इसकी सूचना दे दी अब देखना यह है कि क्या सीनियर पुलिस अधिकारी भ्रष्ट पुलिस कर्मियों के ऊपर लगाम लगा पाएंगे और इस घटना पर कार्यवाही करेंगे या फिर फरीदाबाद में इन भ्रष्ट पुलिस कर्मियों की गुंडागर्दी ऐसे ही देखने को मिलेगी.
कुरेशी साहब आपके बिगड़ैल पुलिसवालों की लगाम आपके हाथ में हैं या किसी और के जिन्हें आपका जरा सा भी डर नहीं ?
क्या आपके पास कोई ऐसा तंत्र है जो भ्रष्ट पुलिस कर्मियों को मौके पर रंगे हाथों पकड़ सके?
वाहन चेकिंग के दौरान कुछ भ्रष्ट पुलिसकर्मी अपनी जेब भरते हैं उस पर आप क्या कार्यवाही करेंगे?
फरीदाबाद में पुलिसिया गुंडागर्दी ऐसे ही चलती रहेगी या फिर समाज में रह रहे लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना है क्या यह पुलिस सीख पाएगी ?
समाज का चौथा स्तंभ कहलाने वाले पत्रकार इस माहौल में निर्भीक एवं निष्पक्ष पत्रकारिता पाएंगे या उन्हें पत्रकारिता छोड़ देनी चाहिए?
क्या पुलिसया गुंडागर्दी के सामने समाज का चौथा स्तंभ कहलाने वाला पत्रकार सुरक्षित है . यदि एक पत्रकार के साथ ऐसा व्यवहार किया जा सकता है तो आमजन के साथ क्या हाल होता होगा.
Qureshi सर हम आपको बताना चाहते हैं कि महज 1 सप्ताह पहले वाला पुलिस चौकी के बगल में फरीदाबाद नगर निगम द्वारा हुई तोड़फोड़ का कवरेज करने पहुंचे कुछ पत्रकारों के साथ में भी पल्ला पुलिस चौकी के पुलिसकर्मियों ने दुर्व्यवहार किया था और कैमरा छीनने का प्रयास किया था जिसकी कंप्लेंट s h o सेक्टर 37 और एसीपी को की गई थी लेकिन उस पर कोई भी कार्यवाही नहीं हुई।

Post A Comment:

0 comments: