जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब का प्रमुख त्योहार लोहड़ी राज्यभर में धूमधाम से मनाई जा रही है। लोग सुबह से ही एक-दूसरे को लोहड़ी की शुभकामनाएं व गुड़, तिल, मूंगफली देकर खुशियां बांट रहे हैं। अमृतसर में स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने जनता के बीच जाकर लोहड़ी मनाई और उन्हें इसकी शुभकामनाएं दीं।
लोहड़ी का मुख्य कार्यक्रम वैसे तो शाम के समय होता है, लेकिन सुबह से ही लोग एक-दूसरे को मुबारकबाद देने में जुटे रहे। लोहड़ी को लेकर सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में भी कार्यक्रम आयोजित किए गए। लोगों ने भंगड़ा डालकर पर्व मनाया।  लोहड़ी के दिन आग में तिल, गजक, मूंगफली, गुड़, रेवड़ी, खील, मक्का चढ़ाया जाता है और फिर इसे प्रसाद के रूप में लिया जाता है।
अमृतसर में लोहड़ी मनाती युवतियां।
लोहड़ी नवविवाहितों के लिए खास मानी जाती है। नवविवाहित जोड़ा इस दिन अग्नि में आहुति देते हुए उसके चारों ओर घूमता है और अपनी सुखी वैवाहिक जीवन की प्रार्थना करता है। लोग नई दुल्हन के लिए तोहफे ले जाते हैं और उसके अच्छे दांपत्य जीवन की कामना करते हैं।
अमृतसर में लोहड़ी मनाती युवतियां।
पंजाब में लोहड़ी को दुल्ला भट्टी की एक कहानी से भी जोड़ा जाता है। दुल्ला भट्टी मुग़ल शासक अकबर के समय में पंजाब में रहता था। उसे पंजाब के नायक की उपाधि से सम्मानित किया गया था। उस समय संदल बार के जगह पर लड़कियों को गुलामी के लिए बल पूर्वक अमीर लोगों को बेच जाता था जिसे दुल्ला भट्टी ने एक योजना के तहत लड़कियों को न की मुक्त ही करवाया, बल्कि उनकी शादी हिंदू लड़कों से करवाई और उनकी शादी के सभी व्यवस्था भी करवाई।

Post A Comment:

0 comments: