ब्यूरो चीफ , विष्णु दयाल फरीदाबाद


फरीदाबाद  04/01/2018: साल 2017 में फरीदाबाद पुलिस ने कई बेहतरीन कार्य किए, जिनमें कई कार्य ऐसे भी रहे जिनमें शहर में अपराध कम करने के साथ ही साथ अन्य सामाजिक मुद्दों और जागरूकता को लेकर सराहनीय प्रयास किए।इस साल की सबसे बड़ी विशेषता यह रही कि फरीदाबाद पुलिस ने न केवल जनता के साथ सीधा संपर्क किया बल्कि पुलिस – पब्लिक के बीच की दूरी कम करने के लिए सार्थक पहल की।पुलिस गश्त मजबूत करने के लिए कॉरपोरेट जगत का भी फरीदाबाद पुलिस को काफी सहयोग मिला और पेट्रोलिंग मजबूत करने के लिए कॉरपोरेट जगत ने कई गाडि़यां पुलिस को उपलब्ध कराईं।
क्राइम डाटा
साल 2016 की बात करें कुल एफआईआर विभिन्न अपराधों की 12 हजार 115 दर्ज की गई थीं। साल 2017 की बात करें इस साल विभिन्न आपराधिक वारदातों की कुल 15 हजार 349 दर्ज की गईं।
जोन –    2016                   2017
सैन्ट्रल –  3669                    4913
एन.आई.टी- 5248                   6460
बल्लबगढ - 3198                   3976
तुलनात्मक अपराध का विवरण इस प्रकार हैः-
अपराध          2016             2017           वर्क आउट:
302             64                  80              75%
307             67                   83              65%
304ए एक्सीडेंट    209                260                53%
376              145                 194               81%
324                209                 189                 79%
395                 15                  05                   40 %
392                 35                  53                    62%
379ए-बी             227                 452                   43%
वाहन चोरी          1974                  1924                  18%
454-457            458                   518                    29%
सामान्य चोरी        497                   805                    29%
पब्लिक ड्रिंकिंग      1503                   1420                   100%
अवैध शराब         1489                   1914                    100%
एन.डी.पी.एस एक्ट     68                   56                       98%
आरम एक्ट           147                  177                       94%
गैंबलिंग एक्ट          662                  638                       98%
कॉव एक्ट              18                  24                       58.33%
क्राईम ब्रांच की विशेष उपलब्धियां
फरीदाबाद पुलिस ने वर्ष 2017 में विभिन्न केसों में 52 गैंग पकडे है जिनसे 2 करोड़ 88 लाख 26 हजार 6 सौ रूपये बरामद किए है। जिनका विवरण इस प्रकार हैः-
1. लुटः- लुट के 04 गैंग पकडे जिनमें 19 आरोपियों को गिरफतार किया गया और उनसे 33 केस सुलझाए और 44 लाख 62 हजार 360 रूपये बरामद किए।
2. सामान्य चोरीः- सामान्य चोरी के 6 गैंग पकडे है जिनमें 14 आरोपी है जिनसे 52 केस सुलझाए गए है और 29 लाख 19 हजार 500 रू0 बरामद किए गए।
3. घर की चोरीः- 11 गैंग पकडे 36 आरोपी गिरफतार कर इनसे 44 केस सुलझाए गए है और 40 लाख 80 हजार 9 सौ रू0 बरामद किए गए है।
4. स्नैचिंगः- स्नैचिंग के 14 गैंग पकडे जिनमें 42 आरोपियों को गिरफतार करके 46 केस सुलझाए जिनसे 38 लाख 30 हजार 9 सौ रूप्ये बरामद किए।
5. वाहन चोरीः- वाहन चोरी के 16 गैंग पकडे जिनमें 36 आरोपियों को गिरफतार करके 110 केस सुलझाए जिनसे 1 करोड 34 लाख रूप्ये बरामद किए।
6. ट्रांसफार्मर चोरीः- एक गैग पकडा जिनमें 4 आरोपी थे जिनसे 5 केस सुलझाकर 13 लाख 3 हजार रूप्ये बरामद किए।
साल 2017 की उपलब्धियां
मैराथन का आयोजन
सुरक्षित और स्वच्छ फरीदाबाद का मैसेज देने और इस संबंध में जागरूकता लाने के लिए फरीदाबाद पुलिस ने मैराथन दौड़ का आयोजन किया। सेक्टर 12 खेल परिसर में आयोजित की गई इस मैराथन में 40 हजार से अधिक हर आयु वर्ग के शहरवासियों ने पुलिस की इस मुहिम में हिस्सा लिया।
पुलिस पब्लिक लाइब्रेरी
पुलिस और पब्लिक के बीच बेहतर तालमेल बनाए जाने के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए सेक्टर 30 स्थित पुलिस लाइन में पुलिस पब्लिक लाइब्रेरी की शुरूआत पिछले साल 5 जून को की गई। पुलिसकर्मियों, उनके परिवार के सदस्यों के साथ ही साथ आस – पास मौजूद सेक्टरों के लोग भी इसका पूरा लाभ ले रहे हैं।
कमेटि लाइजनिंग ग्रुप (सीएलजी)
वर्ष 2017 में शहर में लोगों से बेहतरीन तालमेल बनाने के लिए फरीदाबाद पुलिस ने सीएलजी की स्थापना हर थाने और चौकी में की। इस ग्रुप में आम जनता को शामिल किया गया। आने वाली शिकायतों का आपसी भाईचारे से समाधान हो सके, इसके लिए यह ग्रुप पुलिस की मदद करता है और सामाजिक तौर पर समस्या का समाधान कराए जाने के प्रयास किए जाते हैं। इसके साथ ही पुलिस आयुक्त ने थानों और चौकियों में जाकर ग्रुप के साथ मीटिंग की और क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना, उनके समाधान के निर्देश दिए।
कंट्रोल रूम बनाया आधुनिक
फरीदाबाद पुलिस का कंट्रोल रूम आम नागरिक के लिए किसी भी प्रकार की सूचना देने का सबसे अच्छा माध्यम है, लेकिन लगातार यह नंबर व्यस्त रहता है, यह शिकायत और समस्या आने पर उसका समाधान किया गया। इसके लिए जरूरी सॉफ्टवेयर आईवीआरएस का इस्तेमाल साल 2017 में शुरू किया गया। इसके बाद यह समस्या दूर हो गई और दूसरा फायदा यह हुआ कि पहले जहां तकनीकी रूप से आने वाली अनावश्यक कॉल करीब 12 हजार तक आती हैं, वह अब घटकर करीब 250 रह गई हैं।
कंट्रोल रूम में वटसएप्प की सुविधाः-
वर्ष 2017 में पुलिस कंट्रोल रूम मे वटसएप्प नं0 9999150000 की शुरूआत की गई ताकि कॉलर/सूचना देने वाले व्यक्ति को समय पर पुलिस की मदद मिल सके। व्टसएप्प नं0 शुरू करने के बाद आम-जन को इसका काफी लाभ हुआ है। इसके द्वारा लोगो ने पुलिस से सीधा संपर्क साधा है। और पुलिस को क्राईम से संबंधित सूचना भी दी गई। जिसपर पुलिस ने तुरन्त प्रभाव से काम किया है। इससे पुलिस व पब्लिक के बीच की दुनिया कम हुई है। कोई भी आम-जन उपरोक्त दिए हुए व्टसएप्प नं0 पर शिकायत के अलावा का्रईम व क्रिमिनल से संबंधित सूचना भी पुलिस को दे सकता है।
एफ.आई.आर एप्प की शुरूआतः-
फरीदाबाद पुलिस ने एफ.आई.आर एप्प की शुरूआत की जिसके अर्न्तगत फरीदाबाद पुलिस ने 10642 कॉल प्राप्त की जिनमें से अन्य जिलो की 7975 है। और 1155 एक्टीव कॉल थी जिनपर कार्यवाही की गई है।
बहादुर महिलाओं का सम्मान
अपराध के खिलाफ आवाज उठाने और अपराधियों का मुकाबला करने वाली बहादुर महिलाओं को सम्मानित किया, जिससे एक मैसेज देने का प्रयास किया गया कि इस प्रकार की हिम्मत अन्य महिलाएं भी दिखाएं। ऐसे ही मामले में चैन स्नैचर को पकड़ने वाली ग्रीन फील्ड कॉलोनी की दो बहादुर महिलाओं मधुलिका व कमलेश को सरकार की योजना के तहत 16 अक्टूबर 2017 को 50-50 हजार रुपये और सर्टिफिकेट देकर फरीदाबाद पुलिस ने सम्मानित किया। इसी क्रम में सेक्टर 23 निवासी महिला आशा और अमरजीत रंधावा को लड़कियों को परेशान करने वाले मनचलों को सबक सिखाने पर प्रशस्ति पत्र और कैश अवार्ड देकर सम्मानित किया गया।
एजुकेशन इंस्टीट्यूटस को सुरक्षित बनाने के प्रयास
शहर के सरकारी स्कूलों से लेकर प्राइवेट स्कूल और सभी प्रकार के कॉलेज व यूनिवर्सिटी में लगाई गई शिकायत पेटी को पुलिस अधिकारियों ने जांचना शुरू किया। सभी पेटियों को संबंधित पुलिस अधिकारी चेक करते हैं और किसी भी प्रकार के अपराध की सूचना मिलने पर कानूनी कार्रवाई की जाती है। अन्य शिकायतों पर प्रिंसिपल के साथ बैठ उनका समाधान कराया जाता है। यह प्रक्रिया स्टूडेंट्स और फरीदाबाद पुलिस के बीच सूचना आदान – प्रदान करने का बेहतरीन जरिया बनी है।,,,,,,,,,,,,,,,हरियाणा पुलिस द्वारा ऑनलाईन ऐंकर टेलेंट हट प्रतियोगिता में स्कूली बच्चों द्वारा मंच संचालन करने के लिए प्रोत्साहित किया गया।
स्वच्छ वातावरण को लेकर किया पौधारोपण
फरीदाबाद शहर के स्वच्छ वातावरण को लेकर भी फरीदाबाद पुलिस ने सक्रिय योगदान दिया। हरित हरियाणा अभियान के तहत फरीदाबाद पुलिस ने सभी थानों और चौकियों में 5 हजार पौधे लगाए।
सेहत के लिए अपनाया योगा
पुलिसकर्मियों की सेहत को ध्यान में रखते हुए फरीदाबाद पुलिस ने योगा की तरफ विशेष ध्यान दिया, जिससे वह मानसिक व शारीरिक रूप से स्वस्थ रह सकें। इसी को लेकर अंर्तराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सेक्टर 30 स्थित पुलिस लाइन और सेक्टर 12 खेल परिसर में आयोजित योगा कार्यक्रमों में पुलिसकर्मियों ने हिस्सा लिया और स्वस्थ रहने के लिए योग के जरूरी आसन सीखे।
सार्वजनिक स्थानों पर रोका तंबाकू सेवन
शहर में सार्वजनिक स्थानों पर तंबाकू का सेवन करने वालों के खिलाफ विशेष 22 व 29 दिसंबर को अभियान चलाया। इसमें कोटपा एक्ट 2003 के तहत शहर में अलग – अलग सार्वजनिक स्थानों पर कुल 2107 चालान किए गए। फरीदाबाद पुलिस का यह अभियान भी शहर के लोगों के स्वास्थ्य को लेकर था, जिसमें चालान करने के साथ ही लोगों को इसका इस्तेमाल न करने की सलाह दे, स्वस्थ्य रहने के बारे में बताया गया।
विशेष चैंकिंग अभियान
अपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए फरीदाबाद पुलिस ने साल 2017 में सामान्य चैकिंग के अलावा दिन और रात के समय स्पेशल चेकिंग अभियान चलाए गए। इन विशेष चैकिंग अभियानों के दौरान क्राईम ब्रांच, थाना पुलिस ने अधिकारियों की सुपरविजन में लगभग 50,000 हजार वाहनों की चैंकिंग करते हुए 9152 चालन किए गए।
पासपोर्ट एवं चरित्र सत्यापनः-
वर्ष 2017 में पासपोर्ट से संबंधित 37854 प्राप्त आवेदन में से 37405 आवेदन का तय सीमा में पासपोर्ट ऑफिस को डिस्पेच किया।
इस वर्ष 10992 व्यक्तियों के चरित्र सत्यापन किए गए।
आपकी सुरक्षा और आपके साथ कार्यक्रम
शहर की बढ़ती हुई आबादी और पेट्रोलिंग के लिए सीमित संसाधनों को देखते हुए पुलिस कमिश्नर ने स्मार्ट पुलिसिंग के अंतर्गत पुलिस पब्लिक पार्टनशीप योजना के तहत आपकी सुरक्षा आपके साथ कार्यक्रम की शुरूआत की। इस योजना के तहत शहर के लोग पुलिस के साथ मिलकर शहर को और अधिक सुरक्षित बना सकते हैं। इसका फायदा हुआ और शहर कॉरपोरेट जगत अस्पताल, स्कूलों ने विशेष योगदान देते हुए पेट्रोलिंग के लिए 34 गाडि़यां उपलब्ध कराईं। इनमें 19 अर्टिगा कार, एक एंबुलेंस, 12 बाइक और 02 स्कॉरपियो गाड़ी शामिल हैं। इससे शहर की पेट्रोलिंग व्यवस्था में काफी सुधार हुआ। जनता व पुलिस के बीच की दुनिया कम हुई।
एन.एच-2 पर ट्रैफिक सहायता बूथ
नैशनल हाइवे पर हादसों में घायल होने वाले लोगों की मदद के लिए हाइवे पर 5 ट्रैफिक सहायता बूथ खोले गए हैं। डीजीपी हरियाणा ने इनका उद्घाटन किया। सभी बूथ पुलिस कंट्रोल रूम से भी जुड़े हुए हैं। प्रत्येक बूथ पर ट्रेनड पुलिसकर्मियों को नियुक्त किया गया, जो हादसों में घायल लोगों को प्राथमिक उपचार देने के साथ ही अस्पताल भी पहुंचाएंगे। जरूरी दवाओं का भी यहां पर इंतजाम रखा गया है। ट्रैफिक सहायता बूथ 4 बुलेरो और एक टाटा सूमो उपलब्ध कराई गई है।
नो यॉर केस स्टेटस स्कीम
लोगों की सुविधा के लिए शहर के प्रत्येक थाने और चौकी में नो यॉर केस स्टेटस स्कीम की शुरूआत की गई। प्रत्येक शनिवार व रविवार को शहर के सभी थाने और चौकियों में दोपहर 12 से 2 बजे के बीच पुलिस अधिकारी मौजूद रहेंगे। इस बीच जिन्होंने एफआईआर दर्ज कराई है या शिकायत दी है, उसका स्टेटस वह जान सकते हैं। इसके तहत 09 हजार 793 लोगों ने अपनी एफआईआर या शिकायत का स्टेटस के बारे में जाना है।
Month Jan Feb Mar Apr May June July Agust Sept Oct Nov Dec Total
Total complaints 763 846 753 1154 710 750 1058 755 829 810 1208 907 9793
नशीले पदार्थ (ड्रग्स) नष्ट
साल 2017 में जो भी नशीले पदार्थ पुलिस ने बरामद किए, उनको नष्ट भी किया। साल 2017 में 134 दर्ज मामलों में बरामद 1 हजार 648 किलो 507 ग्राम गांजा, 9 किलो 25 ग्राम चरस, 740 ग्राम मेथाकोलिन, एक किलो 200 ग्राम कैनाबिस, 4 किलो 500 ग्राम ओपियम, 4800 किलो एमएल कोरेक्स और 8 ग्राम स्मैक को नष्ट कर स्वस्थ समाज बनाए रखने के अपने कार्य को पूरा किया।
सीसीटीवी
जिले को सुरक्षित रखने में सीसीटीवी अहम रोल निभा रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए फरीदाबाद पुलिस ने शहर की आरडब्ल्यूए और पंचायतों को इस संबंध में जागरूक किया और अच्छे परिणाम भी मिले। अपराधों को कम करने के लिए आरडब्ल्यूए और पंचायतों के सहयोग से अभी तक 35 हजार 97 कैमरे लगाए जा चुके हैं।
पीओ और बेल जंपर
विभिन्न आपराधिक मामलों में पीओ या बेल जंपर घोषित लोगों के खिलाफ फरीदाबाद पुलिस ने विशेष अभियान चलाया और ऐसे 345 लोगों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की।
महिला सुरक्षा
महिला थाना स्थित हेल्पलाइन 1091 पर 2 हजार 261 शिकायतें प्राप्त हुई, सभी का निपटारा किया गया जिसमें से 46 शिकायतों पर मुकदमें दर्ज किए गए।
महिला कॉलेज और स्कूलों के बाहर विशेष चेकिंग अभियान चलाए गए।
ऑपरेशन दुर्गा के तहत कॉलेज, स्कूलों और विभिन्न रिहायशी क्षेत्रों में जाकर महिलाओं को महिला सुरक्षा संबंधी जागरूक किया गया।
ट्रैफिक सुधार
सड़क दुर्घटनाओं में घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुॅचाने वाले व्यक्ति को 1 हजार रू0 ईनाम देने की घोषणा की गई जिससे की सड़क दुर्घटना मे घायल व्यक्ति को समय पर उपचार मिले और उसकी जान बचाई जा सके।
साल 2017 में ट्रैफिक व्यवस्था में सुधार के लिए ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने के 3 लाख 5 हजार 517 चालान किए गए, जिनसे 5 करोड़ 74 लाख 78 हजार 800 रुपये का जुर्माना वसूला
गया। साल 2016 में चालानों की संख्या 01 लाख 41 हजार 630 थी और इससे 02 करोड़ 55 लाख 53 हजार 800 रुपये जुर्माने के रूप में वसूले गए।
ट्रैफिक क्रेन स्टाफ ने 4 हजार 797 चालान कर 4 लाख 79 हजार 700 रुपये जुर्माने के वसूले गए।
ओवरस्पीड वाहनों पर भी फरीदाबाद पुलिस की पूरी नजर रही और इंटरसेप्टर के जरिए ओवरस्पीड के 6 हजार 640 चालान किए गए।
हैवी व्हीकल की नो एंट्री के 405 चालान किए गए।
ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले 2 हजार 365 लोगों के ड्राइविंग लाइसेंस रद्द किए गए।
ड्रंक एंड ड्राइविंग के 2 हजार 232 चालान किए गए।
ट्रैफिक विंग द्वारा 227 केसों की जांच के बाद 114 केसों में कोर्ट में भेज दिया और 113 केस अनुसंधानहीन हैं।
सड़क हादसे
साल 2017 में हाइवे पर 176 एक्सीडेंट हुए जिनमें 87 की मृत्यु और 126 लोग घायल हुए। इसके अलावा शहर की अन्य सड़कों पर 416 एक्सीडेंट हुए, जिनमें 128 की मृत्यु व 382 घायल हुए।
साल 2016 में हाइवे पर 127 एक्सीडेंट हुए, जिनमें 47 की मृत्यु और 128 घायल हुए। इसी साल शहर की अन्य सड़कों पर 436 एक्सीडेंट हुए, जिसमें 127 की मृत्यु और 449 घायल हुए।
साल 2018 के लक्ष्य
पीसीआर व राईडर का समय व जगह निर्धारित की गईः-
01 जनवरी 2017 से फरीदाबाद शहर में सभी पीसीआर व राईडर का समय व जगह निर्धारित की गई है। डयूटी पर तैनात कर्मचारी के पास डयूटी का रोस्टर होगा जिसमें यह निर्धारित होगा कि किस समय कहा पीसीआर व राईडर तैनात होगी। कौई भी अधिकारी किसी भी समय इन पीसीआर व राईडर का रोस्टर चैक कर यह देख सकता है कि अब इस समय कहा तैनाती होनी चाहिए।
* नैशनल हाइवे पर हादसों को रोकने के लिए एनएचएआई और नगर निगम के साथ तालमेल बैठा हर उस खामी को दूर करवाना, जिसकी वजह से हादसे हो रहे हैं।
* महिला सुरक्षा को लेकर ज्यादा प्रयास करना, स्कूल, कॉलेजों के साथ ही साथ इंडस्ट्री और स्लम क्षेत्र में महिलाओं के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करना।
* 2018 में बल्लबगढ में भी पुलिस पब्लिक लाईब्रेरी का निमार्ण किया जाना है।
* बल्लभगढ़ में नया महिला पुलिस थाना खोला जाएगा।
* ट्रैफिक चालान को पूरी तरीके से ईचालान किया जाएगा।
* अपराधों को कम करने के लिए समय के साथ नई – नई तकनीकों को अपनाया जाएगा।
* 100 नंबर को सेंट्रलाइज किया जाएगा और पंचकुला से जोड़ा जाएगा।
* शहर में और अधिक सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाने के प्रयास किए जाएंगे।
* पुलिस की हरसमय वेबसाइट, एफआईआर ऐप, सेफ एंड सिक्योर ऐप आदि को लेकर ज्यादा से ज्यादा प्रचार किया जाएगा।
* आम लोगों के साथ पुलिस की भागीदारी ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने के लिए और अधिक प्रयास किए जाएगें जिसके लिए सभी थानों में मित्र कक्ष खोले जाएंगें।
* पीओ व बेल जंपर (भगोड़े) को पकडने के लिए समय-समय पर विशेष अभियान चलाए जाएगें।
* समय-समय पर पुलिस, उनके परिवारगण व पब्लिक के लिए पुलिस लाईन में स्वास्थय जांच शिवर का आयोजन किया जाएगा।
* क्राईम ब्रांच को आधुनिक बनाया जाएगा व इन्टेरोगेशन रूम बनाया जाएगा।
* सीआईडी गुरूग्राम डाईटेक के माध्यम से इलेक्ट्रोनिक सर्विलेंस।
* पुराने केसों को सुलझाने के लिए ओल्ड केस युनिट बनाई जाएगी।
* पुलिस कर्मीयों के लिए रिहायशी मकान बनाए जाएंगे।
* ई कोर्ट के अर्न्तगत अपराधियों की पेशी विडियों कान्फ्रेंस से कराई जायेगी।
* डी.ए.वी पुलिस पब्लिक स्कूल बनाया जाएगा।
* नए थाने सूरजकुण्ड , भूपानी, खेडीपुल, तिगांव बनाए जाएंगें।

Post A Comment:

0 comments: