ब्यूरो चीफ , फरीदाबाद Vishnu Dayal


फरीदाबाद 30/01/2018: फरीदाबाद: पुलिस आयुक्त श्री अमिताभ सिंह ढिल्लो के दिशा निर्देश पर प्रभारी साईबर अपराध शाखा निरीक्षक सुरेश कुमार व उनकी टीम के सहायक उप निरीक्षक योगेश कुमार, मय साईबर टीम स.उप.नि. राजेश कुमार, स.उप.नि. बाबूराम, स.उप.नि. जावेद खान, स.उप.नि. ध्रमेन्द्र, स.उप.नि. प्रमोद कुमार, स.उप.नि. सरजीत, मु.सि. नरेन्द्र, मु.सि. वीरपाल सि. देवेन्द्र कुमार व म/सि. इन्दूबाला ने तकनीकी संसाधन व मुख्बर खास से मिली सूचना पर नौकरी दिलाने के नाम पर खातो में पैसे जमा कर बेरोजगार व्यक्तियों से धोखाधडी करने वाले चार आरोपियों को दिल्ली से दिनांक 25.01.18, 26.01.17 व 27.01.18 को गिरफतार करने में कामयाबी हासिल की है।
गिरफतार किए गए आरोपियों का विवरणः-
1. रवि कुमार पुत्र स्वर्गीय श्री सीताराम निवासी 6/2, केन्द्रीय विधालय, तुगलकाबाद, दिल्ली।
2. विवेक अरोडा पुत्र महेन्द्र सिंह अरोडा निवासी जे-3, 106, संगम विहार दिल्ली।
3. लेखराज उर्फ दीपक पुत्र नेकराम निवासी जे-3, 109, संगम विहार दिल्ली।
4. विवेक चैहान पुत्र प्रकाश सिंह निवासी डी0-1/1118, रतिया मार्ग, संगम विहार दिल्ली।
आप को बताते चले कि दिनांक 23.01.18 को शिकायतकर्ता सतेन्द्र कुमार निवासी म.न. 218, गली न. 14, भीकम कालोनी, बल्लबगढ ने एक शिकायत दी थी कि उसके पास अक्टूबर 2017 में shine.com की Experis Firm की तरफ से फोन आया कि उनकी फर्म देश-विदेश में Placement कराती है। अभी सिंगापुर में जगह खाली है, अगर आप इच्छुक है तो हमारी रजिस्ट्रैशन फीस 2500 रु. है। अपना सी.वी. पासपोर्ट साईज फोटो हाईयर एजुकेशन सर्टिफिकेट व आधार कार्ड मेल द्वारा भेजे। हमारे एच.आर. मैनेजर आपका इन्टरव्यु लेंगे और आपको रजिस्ट्रेशन फीस के लिये बैंक खाता न0 देंगे। जिसपर शिकायत कर्ता के पास काल आई और एक व्यक्ति ने उसका इन्टरव्यु लिया और पैसा जमा कराने हेतु बैंक डिटेल उपलब्ध करा दिये। इसके बाद उन्होने अपने फोन स्वीच आफ कर लिये। शिकायत कर्ता ने उनकी मांग के अनुसार अलग-2 समय में कुल 4 लाख 71 हजार रु. उनके बैंक खातों में जमा करा दिए थे। जिस पर मुकदमा न. 119 दिनांक 23.01.18 धारा 406, 420 भा.द.स. के अन्तगर्त थाना शहर बल्लबगढ, फरीदाबाद में अभियोग अकिंत किया गया था।
पूछताछ के दौरान सामने आया कि जिन लोगो को नौकरी की जरूरत होती थी वो साईन डाट काम पर अपनी आईडी बनाकर अपना डाटा अपलोड करते थे उपरोक्त आरोपियान एक पेलेसमेंट एजेंसी के तहत नौकरी के इच्छूक लोगो के डाटो को कलेकट करते थे और उनकी पढाई के अनुसार उनको श्म्गचमतपे थ्पतउ के नाम से फोन कर देश-विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर फोन कर उनको ठगते थे।
नौकरी पाने के इच्छुक लोग आरोपियान द्वारा बताए गए बैंक खातों में रजिस्ट्रैशन चार्ज, ट्रेनिंग चार्ज, रिहायसी खर्चा व हवाई जहाज टिकट इत्यादि की एवज में पैसे जमा कराया करते थे। लोगों से अलग-2 खातों में पैसे लेकर बाद में अपने फोन बन्द कर लेते थे। आरोपियान दुसरे लोगो के नाम पर खाते खुलवाते थे और आपरेट खुद करते थे।
प्रभारी साईबर सैल ने बताया कि आरोपियान काॅल सेन्टर चलाकर नौकरी दिलाने के नाम पर पिछले एक साल से फर्जीवाडा कर रहे थे। आरोपियान ने सिरसा, कोटा राजस्थान, गुरूग्राम में ऐसी वारदातों को अंजाम दिया हुआ है। तथा पकडे जाने के डर से बार-2 अपने फोन व लोकेशन बदल देते थे।
उन्होने बताया कि आरोपी रवि बीकाम तक पढाई की है। इसके पिता दिल्ली में अध्यापक थे जो अब रिटायर्ड हो चुके है।
बरामदगीः- 2 लाख 80 हजार हजार रूप्ये, अपराध मे प्रयोग किया गया मोबाईल फोन व बैको के ।ज्ड ब्ंतक
उपरोक्त चारों आरोपियों को माननीय अदालत के आदेानुसार पुलिस रिमाण्ड पर रखकर पुछताछ जारी है।



Post A Comment:

0 comments: