ब्यूरो चीफ ,

Add caption
फरीदाबाद 18/07/2018 : एक पुरानी कहावत है की आदालतो व वकीलों के चक्कर काटते- काटते लोगो के घर-बार तक बिक जाता है , परन्तु न्याय समय पर नहीं मिल पाता और उपर से वकीलों की मोटी फीस | एक गरीब तपके के इंसान को न्याय पाने के लिए कठोर परिश्रम करना पड़ता है | परन्तु आज भी कुछ वकील ऐसे है जो इन गरीब व समाज के सताए हुए के सताए हुए लोगो क लिए मशीहा साबित होते है , इन्ही में से एक नाम एडवोकेट एच.एस.तंवर जी का है | जो एक गैंगरेप पीड़ित विकलांग युवती का केस फ्री में लड़ने का फैसला किया है |
यह  मामला 4 अगस्त 2017 फरीदाबाद का है जहाँ के सेक्टर-58 में शिवालिक एक्सपोर्ट कम्पनी  में कम्पनी के चार कर्मचारियों द्वारा उसी कम्पनी में काम कर रही एक युवती के साथ जबरदस्ती सामूहिक गैंग रेप की वारदात को अंजाम दिया गया था | पीड़ित युवती ने बताया की उसका नाम शीतल है और वह सीकरी तहसील बल्लबगढ़ जिला फरीदाबाद की रहने वाली है | पीड़िता ने बताया की फरीदाबाद के सेक्टर-55 में आरोपियों के खिलाफ धारा 323, 376डी,506,120बी आइ०पी०सी०  के तहद मुकदमा भी दर्ज हुआ | परन्तु आज तक उसे न्याय नहीं मिला और आरोपी आज भी खुले ही घूम रहें है | पीड़िता ने बताया की न्याय की आस लेकर वह उस समय पदासीन पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी से भी मिली , सी.यम.विंडो पर भी दरखास डाली पर आज तक न्याय नहीं मिला |
पीड़िता ने बताया की वह एक हाथ से अपाहिज है और उसका परिवार बहुत गरीब है | आदलती कारवाही व वकीलों को फीस देने के लिए उनके पास पैसा नहीं है , और अगर उसे न्याय नहीं मिला तो वह आत्महत्या कर लेगी |
   ऐसे में एडवोकेट एच.एस.तंवर जी इस पीड़िता की मदद के लिए आगे आये और पीड़ित युवती को न्याय दिलाने के लिए बिना फीस लिए उसके केस को लड़ रहे हैं |
पत्रकारों से बात करते हुए तंवर जी ने बताया की उनकी पूरी सहानुभूति इस परिवार के साथ है अब वो इस पीड़िता को न्याय दिला कर ही रहेंगे | कानूनी प्रक्रिय में थोडा समय जरुर लगता है | परन्तु अंत में जीत सत्य की ही होती है|

Post A Comment:

0 comments: