विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद


फरीदाबाद 19/09/2018 इस देश के नेता जितना दिमाग अपनी जेब भरने व अपने स्वार्थ की पूर्ति करने में लगाते हैं अगर उसका 40% दिमाग अपने काम के प्रति ईमानदारी में लगा दे तो हमारा देश सही मायनों में विकास की ओर बढ़ जाएगा ।
ये नेता लोग कैसे इस देश के मेहनकश लोगों की कमाई पर मौज लुटाते है, इसका कबूलनामा तो पिछले दिनों भाजपा सरकार में केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने ‘फोकट डीजल’ मिलने की बात कहकर किया ही था। जनता के टैक्स के पैसों पर अपने परिवार वालों को ऐश करवाने का ताजा मामला महाराष्ट्र के नागपुर से आया है। यहां की महिला मेयर पर यह आरोप लगा है कि वह गैरकानूनी तरीके से अपने बेटे को ही अपना सचिव बनाकर उसे सरकारी खर्चें पर अमेरिका लेकर चली गई।
नागपुर की मेयर नंदा को कैलिफोर्निया के फ्रांसिस्को में 12-14 सितंबर तक आयोजित ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन समिट के लिए न्योता मिला था। तो हुआ कुछ यों कि मेयर साहिबा ने कैलिफोर्निया समिट में किसी आधिकारिक सचिव को अपने साथ ले जाने की बजाय वह अपने लड़के प्रियाश जिचकर को ही अपना सचिव बनाकर अपने साथ कैलिफोर्निया ले गई। जिसकी खबर लगने के बाद कांग्रेस ने इस पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कार्रवाई करने की मांग कर दी है।
बीजेपी मेयर के इस कदम पर आपत्ति दर्ज कराते हुए नागपुर में कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विकास ठाकरे ने कहा कि मेयर का लड़का प्रियाश जिचकर मुंबई में रहकर पढ़ाई करता है और वह नागपुर नगर निगम का सदस्य भी नहीं है। बावजूद इसके अपने बेटे को अपना सचिव बताकर उसे अपने साथ सरकारी खर्चें पर अमेरिका ले जाना मेयर की गलती है। विकास ठाकरे के मतानुसार, मेयर के ऐसे क्रियाकलापों से विदेशों में देश की साख भी ख़राब होती है।

Post A Comment:

0 comments: