विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद (हरियाणा)

फरीदाबाद 20/10/2018 : लगता है कि फरीदाबाद शहर के अंदर भाजपा सरकार की मुश्किलें कम होने का नाम ही नही ले रही हैं । अभी हाल ही में दशहरे के प्रोग्राम को ले कर स्थानीय भाजपा विधायक व कुछ सामाजिक संगठनों के बीच संघर्ष देखा गया , जिसके चलते कुछ लोगो को जेल भी जाना पड़ा। दशहरे के दिन रावण के पुतला दहन के समय भाजपा के दो दिग्गज मंत्रियों कृष्ण पाल गुर्जर व कैविनेट मंत्री विपुल गोयल के बीच आपसी टकराव को पूरे शहर ने देखा जो की भाजपा के लिए अच्छे संकेत नही है ।
अब एक व्यापारी द्वारा आत्महत्या करने के मामले में भाजपा सरकार बुरी तरह से घिरती नजर आ रही है। बल्लभगढ़ के व्यापारी अनिल कुमार ने हरियाणा भाजपा के प्रभारी एवं राज्यसभा सांसद अनिल कुमार जैन के कथित रिश्तेदारों की प्रताडऩा से दुखी होकर आत्महत्या जैसा कदम उठाया है, बकायदा पुलिस ने मृतक व्यापारी के सुसाईड नोट के आधार पर मुकदमा दर्ज किया है, इस मुकदमे में भाजपा प्रभारी अनिल जैन एवं उनके तथाकथित रिश्तेदारों के नाम दर्ज किए गए हैं। लेकिन हैरत की बात है कि खुद को इंसाफ पसंद व ईमानदार होने का दावा करने वाले पुलिस कमिश्नर सारे मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं। यह आरोप पलवल से कांग्रेस विधायक करण सिंह दलाल ने एक प्रेस वार्ता में लगाए हैं। श्री दलाल ने कहा है कि पुलिस कमिश्नर अपनी ईमानदारी का प्रमाण देते हुए भाजपा प्रभारी अनिल जैन को उनकी दिल्ली स्थित कोठी से गिरफ्तार करके दिखाएं।
उल्लेखनीय है कि 17 अक्टूबर को बल्लभगढ़ पुलिस ने मृतक व्यापारी अनिल कुमार के पुत्र गौरव निवासी बनियावाडा बल्लभगढ़ की शिकायत एवं सुसाईड नोट के आधार पर अंशु गर्ग एवं उनके पति राजेश कुमार गर्ग के खिलाफ धारा 306 व 34 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। इस मुकदमे में भाजपा के प्रदेश प्रभारी एवं सांसद अनिल जैन के नाम का भी जिक्र है। मृतक व्यापारी के सुसाईड नोट के अनुसार एफआईआर में कहा गया है कि उन्हें आरोपी राजेश गर्ग व उनकी पत्नी अंशु गर्ग अपने मामा एवं प्रदेश प्रभारी अनिल जैन के नाम की धमकी देकर तंग करते थे। रोज रोज की धमकियों से तंग होकर ही उन्होंने आत्महत्या करना उचित समझा।
इस मामले को लेकर ही पलवल के विधायक करण दलाल ने प्रेस वार्ता का आयोजन कर अनिल जैन को गिरफ्तार करने की मांग की है। इसके अलावा दलाल ने पलवल व फरीदाबाद में जिलों में सरकार के सरंक्षण में खनन माफियों के फलने फू लने का आरोप लगाया ।
दलाल ने सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि विधानसभा में उन्होंने 26 लाख गरीब तबके के लोगों के राशन कार्ड से नाम हटाने का मुद्दा उठाया था, उस पर खुद मनोहर लाल सरकार ने भी मोहर लगा दी है। विधानसभा अध्यक्ष द्वारा उनके सवाल पर दिए गए जवाब में सरकार ने यह स्वीकार किया है। इनमें से ज्यादातर नाम फरीदाबाद व पलवल जिलों में रहने वाले लोगों के हैं। दलाल ने स्मार्ट सिटी, पराली व विकास के मुददों पर भाजपा सरकार की जमकर खिंचाई की और इसे सरकार का बड़ा फेलियर बताया।

Post A Comment:

0 comments: