विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद


फरीदाबाद 07/10/2018 :  श्री सिद्धपीठ हनुमान मंदिर श्री सनातन धर्म महाबीर दल रजि. द्वारा पिछले छ: दसकों से मनाया जाने वाला दशहरा पर्व जो जिला फरीदाबाद ही नहीं पूरे हरियाणा में एक मिशाल रहा है। मगर पिछले कुछ वर्षों से राजनीतिक दबाव के कारण यह दशहरा धूमधाम से नहीं मन पा रहा। अब यह मामला भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दरबार में पहुंच गया है। संस्था के प्रधान राजेश भाटिया ने कहा कि उन्होने समय रहते जिला प्रशासन से दशहरा मनाने की इजाजत मांगी थी, मगर जिला प्रशासन के आला अधिकारी राजनैतिक दवाब के चलते उन्हें गुमराह करते रहे हैं। इस संबंध में उन्होने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखकर दशहरा मनाने की अनुमति मांगी थी।  मामले पर संज्ञान लेते हुए पीएमओ और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की ओर से जिला उपायुक्त को पत्र लिखकर हमारी संस्था को दशहरा मनाने की अनुमति देने की बात कही है। इस मामले में जिला उपायुक्त ने मंदिर के प्रधान को पत्र लिखकर एसडीएम बडखल से मिलने की बात कही है।

 सिद्धपीठ श्री हनुमान मंदिर मार्केट नंबर 1 को दशहरा पर्व की परमिशन में देरी को लेकर प्रशासन के खिलाफ दशहरा बचाओ कमेटी वह शहर के युवाओं ने कैंडल मार्च निकाला। कैंडल मार्च मंदिर प्रांगण से होते हुए 1,2 के चौक से होते हुए माता वैष्णो मंदिर तक समाप्त हुआ। कमेटी के पदाधिकारी व लोगों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और बोडो पर बड़खल विधायिका सीमा त्रिखा का स्लोगन गेट वेल सून और जो ना मनाने दे त्योहार वह एमएलए बदल दो इस बार ,जोना मनाने दे तो हार वह एमपी, एमएलए बदल दो अबकी बार के साथ नारे लगते हुए हाथ में कैंडल लेते हुए चले। इस अवसर पर दशहरा बचाओ कमेटी के अध्यक्ष अमरजीत सिंह (सन्नी भाटिया ) ने बताया कि पिछले छह दशक से भी अधिक वर्षों से सिद्ध पीठ श्री हनुमान मंदिर दशहरा में आता आया है लेकिन बड़खल विधायिका सीमा त्रिखा के प्रशासनिक दबाव के कारण 2 सालों से दशहरा राजनीति की भेंट चढ़ रहा है। जिसके कारण एनआईटी के लोगों में काफी रोष है। इसी के चलते आज प्रशासन ,बड़खल विधायिका के खिलाफ दशहरा बचाओ कमेटी ने कैंडल मार्च निकाला।`


वहीं श्री भाटिया ने कहा कि गत् वर्ष हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी दशहरा ग्राउड से घोषणा की थी कि जो संस्था पहले से दशहरा मनाती आ रही है आगे भी वही संस्था दशहरा पर्व का आयोजन करेगी। मुख्यमंत्री की बात को ध्यान में रखते हुए श्री सिद्धपीठ हनुमान मंदिर की ओर से संस्था समय के साथ ही दशहरा पर्व की तैयारियां शुरू कर दी और जिला प्रशासन ने से अनुमति मागने के लिए आवेदन भी कर दिया था। इसके लिए नगर निगम, फायर ब्रिगेड, स्वास्थ्य विभाग व अन्य सभी प्रकार की सरकारी फीस भी अदा कर दी, लेकिन अभी तक जिला प्रशासन ने उनकी संस्था को अनुमति नहीं दी है।

श्री भाटिया ने स्थानीय विधायक सीमा त्रिखा व केन्द्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह दोनो नेता दशहरा जैसे धार्मिक पर्व पर राजनीति करके शहर का माहौल खराब करने का काम कर रहे हैं। उन्होने कहा पिछले दो वर्षांे से दशहरा राजनीति की भेंट चढ रहा है। उन्होने कहा भाजपा और आरएसएस राम मंदिर बनाने का काम कर रहे हैं। वहीं केन्द्री मंत्री व बडखल विधायक मंदिर के मामले अडचन डालकर धार्मिक मामले में राजनीति कर रहे हैं। 
इस अवसर पर श्री हनुमान मंदिर के प्रधान राजेश भाटिया ने बताया कि यह एनआईटी के लोगों के लिए बड़े दुख का विषय है की दशहरा पर्व जो पिछले कई सालों से सिद्धपीठ श्री हनुमान मंदिर बनाती आ रही है लेकिन राजनीति के चलते 2 साल से दशहरा नहीं मना पा रहे है। इसी के चलते हमने पीछे हफ्ते एक बैठक का आयोजन किया था। जिसमें पूरे प्रदेश से श्री सनातन धर्म महावीर दल के पदाधिकारी व शहर की सभी धार्मिक संस्थाओ ने निर्णय ले गया था कि अगर प्रशासन इस बार भी सिद्धपीठ श्री हनुमान मंदिर को परमिशन नहीं देता है तो इसकी घोर निंदा की जाएगी और सड़कों पर रोज प्रदर्शन किया जाएगा चाहे उसके लिए उन्हें जेल ही क्यों न जाना पड़े।इस अवसर पर मंदिर के चेयरमैन संजय शर्मा, धर्मवीर भड़ाना ,गुशन बग्गा ,अजय नौनिहाल सेवा समिति ,मानक चंद भाटिया जनता रामलीला कमेटी, सोमनाथ ग्रोवर ,जगदीश भाटिया वैष्णो देवी मंदिर ,संदीप भाटिया, अमरनाथ ,ज्योति ,अशोक अरोड़ा हनुमान मंदिर 1 बी ब्लॉक पूर्व मेयर ,पूर्व पार्षद राजेश भाटिया, शिव मंदिर के प्रधान महेंद्र नागपाल ,बजरंग दशहरा कमेटी के जितेंद्र बहल ,खुशरंग दशहरा क्लब इंदर चावला , बन्नूवाल वेलफेयर एसोसिएशन के राकेश भाटिया ,गीता मंदिर हरीश गुलाटी ,जय दयाल चावला , वेद भाटिया, भरत अरोड़ा शहर की धार्मिक संस्थाओ ने भाग लिया।

Post A Comment:

0 comments: