विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद 20/12/2018 : यह खबर उत्तर प्रदेश के आगरा जिले की है जो इस प्रदेश के भृष्ट कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा करती है । यहाँ के नेता भगवान की जाति-धर्म, मंदिर-मस्जिद पर अपनी पूरी ठेकेदारी जमाने का प्रयास करते है परंतु अपराध रोकने के नाम पर बगले झाँकने लगते हैं।

 मलपुरा के गांव लालउ निवासी नाहर सिंह की बेटी संजलि कक्षा 10 की छात्रा थी। वह मंगलवार दोपहर डेढ़ बजे स्कूल की छुट्टी होने के बाद साइकिल से घर लौट रही थी। रास्ते में हेलमेट पहनकर आए बाइक सवार दो युवकों ने उस पर पेट्रोल डालने के बाद आग लगा दी। आग की लपटों से घिरी संजलि चीखती चिल्लाती रही, एक ट्रक ड्राइवर ने आग बुझाने के बाद परिजनों की मदद से एसएन में भर्ती कराया। आग की लपटों के बीच संजलि करीब 10 मिनट तक घिरी रही, इससे वह 75 फीसद जल गई थी, उसे एसएन में भर्ती कराया गया, यहां से मंगलवार रात को संजलि को दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल रेफर कर दिया था, बुधवार रात को उसकी मौत हो गई।

 संजलि पढ़ने में होशियर थी। जिस साइकिल से संजलि स्कूल जाती थी वह उसने एक प्रतियोगिता में जीत हासिल कर प्राप्त की थी। संजलि की मौत की खबर से गम के साथ लोगों में गुस्सा है, संजलि पर पेट्रोल डालकर क्यों आग लगाई गई, किसने ऐसा घिनौना काम किया, इसकी जांच में पुलिस जुटी हुई है। अभी तक संजलि को जिंदा जलाने वालों का पता नहीं चल सका है। संजलि की इलाज के दौरान मौत के बाद दिल्ली में ही पोस्टमार्टम होगा, वहां से शाम को लालउ मलपुरा में संजलि का शव पहुंचेगा।

Post A Comment:

0 comments: