विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद 08/12/2018 : राजस्थान में शुक्रवार को 199 सीटों के लिए हुई वोटिंग के बाद उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद हो गई। राज्य के बारां जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक सीलबंद ईवीएम मिलने से सवाल खड़े हो गए है।

 राजस्थान विधानसभा चुनाव में बारां और पाली जिले में चुनाव के बाद ईवीएम को लेकर बरती गई लापरवाही पर चुनाव अधिकारियों पर कार्रवाई की गई है। बारां जिले में ईवीएम सड़क पर लावारिस पड़ी मिली। वहीं पाली जिले में भाजपा प्रत्याशी के घर में ईवीएम मिली।
बारां जिले में किशनगंज विधानसभा क्षेत्र के शाहबाद इलाके में एक ईवीएम सड़क पर पड़ी मिली। इस घटना के संबंध में दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। प्रशानस ने इन ईवीएम को किशनगंज में स्ट्रांगरूम में रख दिया है।
 पाली जिले की घटना पर कार्रवाई करते हुए चुनाव आयोग ने शुक्रवार को पाली सीट के रिटर्निंग अधिकारी को हटाने का आदेश दिया है। भाजपा के एक उम्मीदवार के घर में कथित तौर पर ईवीएम पाए जाने के बाद यह कार्रवाई की गई।

इससे पहले दिन में निर्वाचन आयोग ने कहा था कि एक सेक्टर अधिकारी ईवीएम मशीन लेकर भाजपा उम्मीदवार के घर गया था जिसके बाद सेक्टर अधिकारी को हटा दिया गया और संबंधित ईवीएम को चुनाव प्रक्रिया से बाहर कर दिया गया।

निर्वाचन आयोग ने पाली के रिटर्निंग अधिकारी महावीर को भी हटाने का आदेश दिया। वहीं जोधपुर के राकेश को कार्यभार संभालने का आदेश दिया गया।

भाजपा उम्मीदवार के घर में कथित तौर पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन रखे होने वाला वीडियो वायरल हो गया है।

Post A Comment:

0 comments: