Office News20.12.2018 Kkchaddha Delhi

घर ना पहुंचने पर मृतक की पत्नी ने कराया था थाना सैट्रल में गुमशुदगी का केस दर्ज।*आरोपी बिजेंद्र वारदात के बाद मृतक रविंद्र उर्फ बंटी के परिवार वालों को मदद के नाम पर गुमराह करते हुए रविद्र उर्फ बंटी की करवा रहा था तलाश।*
आगरा कैनाल के किनारे दिनांक 18.12.18 को मिली थी मृतक की नाश। जिसकी आगामी तफतीश, श्रीमान पुलिस आयुक्त महोदय ने क्राईम ब्रांच डीएलएफ को सौपीं थी।
हत्या के केस को सुलझाने में एक्सपर्ट निरीक्षक नवीन प्रभारी क्राईम ब्रांच डीएलएफ व उसकी टीम के उप.निरीक्षक ब्रह्म प्रकाश, सहायक उप निरीक्षक कप्तान सिंह, हवलदार कुलदीप सिंह ने पुलिस उपायुक्त अपराध श्री लोकेन्द्र सिहं के दिशा-निर्देश पर कार्यावाही कर इस केस को सुलझाते हुए, दो आरोपीयान सुखविंदर व बिजेंद्र पुत्र बीर सिंह निवासी ताजुपुर थाना भूपानी को किया गिरफ्तार।
नहर किनारे मृतक रविंद्र की नाश मिलने पर क्राईम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी ने तफतीश के दौरान शक के आधार व मृतक की पत्नी से मिली सूचनानुसार आरोपी सुखविंदर तक पहुची क्राईम टीम।  सुखविन्द्र के फोन से मृतक ने अपनी पत्नी को घर फोन करके सूचित किया था कि आज मैं घर नहीं आउंगा। आरोपी सुखविंदर को गिरफतार कर पुलिस रिमाण्ड लेकर उससे पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान आरोपी सुखविंदर के खुलासे के आधार पर सुखविंदर के भाई व मुख्य आरोपी बिंजेंद्र को भी गिरफतार किया गया। इस केस मे हत्या की धाराए लगाई गई।
जिन्होंनें ने पूछताछ में खुलासा किया किः-
आरोपी बिजेंद्र, मानसिंह और मृतक रविंद्र उर्फ बंटी तीनो थामसन कंपनी में साथ नौकरी करते थे। दिनांक 16.12.2018 को शाम को छुट्टी के बाद बिजेन्द्र, मानसिंह निवासी अजरौंदा वा मृतक रविन्द्र उर्फ बंटी निवासी डबुआ कॉलोनी, तीनों ने मिलकर पहले अजरौंदा में शराब पी उसके बाद मानसिंह वहां से चला गया। बाद में बिजेन्द्र, मृतक रविन्द्र उर्फ बंटी को अपने साथ अपने गाँव ताजुपुरा ले गया वा बिजेन्द्र के घर जाकर मृतक ने अपनी पत्नी के पास सुखविंदर के फोन से करके सूचित किया था कि आज मैं घर नहीं आउंगा। आरोपी बिजेंद्र ने बताया कि मैने वा मृतक रविंद्र उर्फ बंटी ने मेरे घर की छत पर बैठकर और शराब पी। आरोपी के अनुसार जब दोनों शराब पीने के बाद सीढियों से नीचे उतर रहे थे तो ज्यादा नशे में होने के कारण मृतक रविन्द्र उर्फ बंटी छत से नीचे गिरकर घायल हो गया ।
मृतक रविन्द्र उर्फ बंटी को घायल अवस्था में आरोपी बिजेन्द्र अपने भाई सुखविंदर की सहायता से रात करीब 11.00 बजे शान्ति हॉस्पिटल खेडी रोड में ले गए । जहाँ हॉस्पिटल वालो ने चैक करके कहा कि इसमे अब कुछ नहीं है इसको  बी.के अस्पताल ले जाओ ।आरोपीयान सुखविंदर, बिजेन्द्र ने मृतक रविन्द्र उर्फ बंटी को ईलाज के लिए बी.के अस्पताल न लेजा कर, आगरा कैनाल के किनारे झाड़ियों में फेंक दिया था और ना ही बंटी के परिवार वालों को सूचना दी।
आरोपीयों ने सुखविंदर के जिस फोन से मृतक ने अपनी पत्नी से बात की थी उस फोन की गुमशुदगी खेडी पुल थाना में लिखवा दी।
पुलिस द्वारा मृतक की नाश का पोस्टमार्टम बोर्ड द्वारा बी.के अस्पताल में करवाया गया है। पुलिस पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के आधार पर की मृतक के शरीर पर चोट कैसे लगी हैं मे मध्यनजर आगामी तफतीश की जाऐगी। 

पुलिस प्रवक्ता
सीपी आॅफिस
फरीदाबाद।

Post A Comment:

0 comments: