विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद 27/02/2019 : फरीदाबाद के ग्रे फाल्कन होटल में आज शहीद चंद्रशेखर आजाद का बलिदान दिवस मनाया गया।इस अवसर पर फरीदाबाद के गणमान्य लोग उपस्थित रहे उन्होंने फूल माला और पुष्प अर्पित करके श्रद्धाजंली अर्पित की।सभा की शुरुआत अखिल भारतीय ब्रह्मर्षि समाज हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष प्रेमचंद गौड ने की।मंच का संचालन प्रदेश महासचिव बी डी कौशिक ने किया।इस अवसर पर सुरेंद्र शर्मा बबली जी ने चंद्रशेखर आजाद की जीवनी पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर आजाद जैसे देश भक्त का उदाहरण इतिहास में मिलना मुश्किल है वही पर सुखवीर मलेरना चंद्रशेखर आजाद को शहीदों का सरताज बताया।उन्होंने कहा कि चंद्र शेखर आजाद भगत सिंह सहित कई क्रांतिकारियों के प्रेरणास्रोत थे। आजाद साल 1925 में लखनऊ के पास स्थित काकोरी स्टेशन के पास ट्रेन में डकैती डालकर अंग्रेजों का खजाना लूट लिया था। उन्होंने साल 1926 में वायसराय की ट्रेन को धमाके से उड़ाने की कोशिश भी की थी। आजाद, 1928 में लाहौर में ब्रिटिश पुलिस के अधिकारी जॉन सांडर्स की हत्या में शामिल थे।
आजाद ने कसम खाई थी कि कभी भी जीवित अंग्रेजों के हाथ नहीं आएंगे। वह हमेशा अपनी कोल्ट पिस्टल को अपने पास रखा करते ​थे। इस पिस्टल को उन्होंने ‘बमतुल बुखारा’ का नाम दिया था। 27 फरवरी 1931 को आजाद की इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में पुलिस के साथ मुठभेड़ हुई थी। उन्होंने अपनी कोल्ट पिस्टल में बची हुई आखिरी गोली खुद को मारकर वीरगति पाई थी। चंद्र शेखर आजाद की पिस्टल आज भी यूपी के इलाहाबाद के संग्रहालय में रखी हुई है।
लोगों ने कहा कि आज के समय में चंद्रशेखर आजाद जैसा उदाहरण होना मुश्किल है। इसअवसर पर श्री सुरेन्द्र शर्मा बबली, राकेश वत्स, राजकुमार गौड,सौमदत गौड, सुखवीर मलेरना,डा शत्रुघ्न सिंह,विपिन शर्मा,बेदी प्रधान, किशोर शर्मा, हरेंद्र स्वामी, हरजिंदर शर्मा, के के त्रिपाठी, हेमन्त शर्मा, कैलाश परासर, अमित कन्नौजिया, रामप्रताप गौड़,एन डी शर्मा,बी डी कौशिक ,धर्मेन्द्र,सोनू चौहान,सक्सेना जी, योगेन्द्र,विपिन भारद्वाजआदि गणमान्य लोगों ने शिरकत की।इस समारोह का आयोजन अखिल भारतीय ब्रह्मर्षि समाज हरियाणा द्वारा आयोजित किया गया।

.

Post A Comment:

0 comments: