विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद, 27 मार्च: मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज और सीएसएआर ने मिलकर सतत विकास, पर्यावरण संरक्षण और सामान्य जागरुकता पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया। इस दौरान मानव रचना यूनिवर्सिटी, एमआरआईआईआरएस, मानव रचना डेंटल कॉलेज और केएल मेहता दयानंद कॉलेज के छात्रों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम शुरू होने से पहले एग्जिबीशन का आयोजन किया गया, इसके आधार पर छात्रों के लिए 25 मिनट का एक पेपर रखा गया, जिसमें कुल 250 में से टॉप 16 छात्रों का चयन किया गया। इन 16 छात्रों ने एक क्विज कॉम्पिटीशन में हिस्सा लिया जिसके बाद बेस्ट छह छात्रों का डिबेट के लिए चयन हुआ। छात्रों ने “Increase in the number and intensity of natural hazards like floods, cyclones or earthquakes is an indicator of Global Warming” पर चर्चा की।  विजेता छात्रा स्वाति को CSAR-मानव रचना क्वीन और संचित को CSAR-मानव रचना किंग के खिताब से नवाजा गया और 7-7 हजार रुपए के कैश प्राइज से सम्मानित किया गया, जबकि बाकी चार छात्रों को तीन-तीन हजार के कैश प्राइज दिए गए। इस दौरान कल्चरल कॉम्पिटीशन का भी आयोजन किया गया, जिसमें लाइव आर्ट करने वाले शिवम और जगबीर ने पहला ईनाम और सात हजार रुपए कैश प्राइज और फैशन सोसाइटी आयरा को दूसरा ईनाम और तीन हजार कैश प्राइज से नवाजा गया।

कार्यक्रम में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के पूर्व निदेशक मोहन महाऋषि, पद्म भूषण विरेंद्र दयाल और यूनिवर्सिटी ऑफ द वेस्ट ऑफ इंग्लैंड से वैज्ञानिक डॉ. मार्क एवरार्ड ने बतौर सम्मानीय अतिथि हिस्सा लिया।

ग्लोनेट नॉलेज सर्विसेज, सीएसएआर और इंटरनेशनल सोशिलॉजिकल एसोसिएशन के वर्किंग ग्रुप (5) के चेयरमैन डॉ. एचएस आनंद की ओर से इस कार्यक्रम का आयोजन करवाया गया था। इस दौरान उन्होंने मानव रचना परिवार का धन्यवाद किया साथ ही सतत विकास लक्ष्यों पर छात्रों के साथ चर्चा की। इस दौरान मानव रचना के डीजी डॉ. एनसी वाधवा, एमआरआईआईआरएस के वीसी डॉ. संजय श्रीवास्तव, प्रो-वीसी डॉ. एमके सोनी समेत कई गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Post A Comment:

0 comments: