विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद 30 मई : एनसीआर में बढते अपराधों को रोकने में नाकाम पुलिस से आमजन खफा हैं, तो अपराधी बेखौफ हैं। पलवल, फरीदाबाद और मेवात जिलों में बढते अपराधों पर पुलिस अंकुश नहीं लगा रही हैं जिससे पीडित परिजन परेशान हैं। उनकी नाराजगी इस कदर बढ रही है कि अब लोग पुलिस के नाकारा और भ्रष्ट अधिकारियों को सबक सिखाने के लिए सडक पर उतरने को तैयार हैं। उनको न्याय दिलाने के लिए फरीदाबाद विकास परिषद के तत्वाधान में गौरक्षा बजरंग फोर्स के पदाधिकारियों ने अब कमर कस ली हैं।

यहां प्रैस को संबोधित करते हुए परिषद के अध्यक्ष तरूण अरोडा ने बताया कि उनको बहुत दुख हो रहा है यह बताते हुए कि फरीदाबाद की पुलिस की नाकामी इस कदर बढ गई है कि वह गरीब और बेसहारा लोगों को न्याय नहीं दिला रहे। पुलिस केवल राजनैतिक और अमीर घरानों की चाकारी कर रही है। उन्होने बताया पलवल और मेवात जिलों की पुलिस की तो कार्यशैली और भी ज्यादा खराब है। तरूण ने बताया उनके पास पलवल, फरीदाबाद और मेवात जिलों में बढते अपराधों के दर्जनों ऐसे मामले आए हैं जिनमें फरियादी कई महिनों से दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं मगर पुलिस ने मामले तक दर्ज नहीं किए। उन्होने बताया अब हम चुप नहीं बैठेंगे  और ऐसे मामलों में गौरक्षा बजरंग फोर्स और परिषद के पदाधिकारी मिलकर आंदोलन करेंगे।

गौरक्षा बजरंग फोर्स के अध्यक्ष बिट्टू बजरंगी ने बताया पुनहाना तहसील के गांव बिछौर में गत् 8 अप्रैल 2019 को 62 वर्षीय रामजीलाल पुत्र कन्हैया की उसके ही खेत में अज्ञात लोगों ने हत्या करके लाश को जलाने की कोशिश की थी। अगले दिन मृतक के परिजनों को अधजली लाश मिली पुलिस ने इस मामले में किसी व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया। मृतक के पुत्र मुके श ने बताया पुलिस उनको धमका कर भगा देती है। थानेदार और मामले की जांच कर रहे अधिकारी उलटे उसे ही परेशान करते हैं।

तरूण अरोडा ने बताया थाना मुजेसर क्षेत्र की संजय कॉलोनी से नाबालिग लडकी ज्योति का 5 मई 19 को अपहरण कर लिया गया। परिजनों ने हारून इकबाल और इमरान पर शक जाहिर किया। पुलिस ने मामला तो दर्ज किया मगर कोई संतोषजनक कार्यवाही नहीं की। इसी प्रकार गांव नेकपुर की कल्पना 32 वर्षीय को उसके जीजा व भाई प्रताडित कर रहे हैं। पीडिता का आरोप है कि उसके रिश्तेदारों ने उससे साढे 6 लाख नकद और आभूषण जमीन दिलाने के नाम पर ठग लिए। जब पीडिता ने जमीन मांगी तो उसे पहले गांव में ही 27गज का प्लॉट में एक कमरा बनाकर दे दिया और बाद उसे मार पीटकर मकान से बाहर कर दिया। इस मामले की शिकायत सिकरौना चौकी, थाना धौज और अन्य आला अधिकारियों को की मगर कोई कार्यवाही नहीं हुई और पीडित महिला अब बेघर है। उपरोक्त संस्थाओं के पदाधिकारियों ने बताया हरियाणा की सरकार बेटी बचाओ बेटी पढाओ जैसे नारे तो देती है परंतु धरातल पर यह केवल मिथ्या ही साबित होता है।

Post A Comment:

0 comments: