विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद 21 अगस्त : देश के चार अहम राज्यों में विधानसभा चुनावों की आहट के बीच दलित संगठन संत रविदास मंदिर को तोड़े जाने के विवाद में मोदी सरकार को घेरने की तैयारी कर रहे हैं। दलित संगठनों ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर वह समय रहते संत रविदास के मंदिर को दोबारा बनाने पर कोई फैसला नहीं लेती है तो पूरे देश में भारत बंद का आयोजन किया जाएगा। वहीं, भाजपा का कहना है कि संत रविदास के मंदिर के नाम के पीछे कुछ निहित तत्व राजनीति करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि जिस फैसले के तहत मंदिर को तोड़े जाने का आदेश दिया गया था, उस आदेश में ही मंदिर को किसी वैकल्पिक स्थान पर बनाए जाने की बात कही गई है। ऐसे में मंदिर के नाम पर कुछ दल बेवजह की राजनीति कर रहे हैं।
इस मौके बहराइच (यूपी) से संसद रही साध्वी सावित्रीबाई फुले ने तमाम दलित समाज से एक हो जाने की अपील भी की | उन्होंने कहा की अगर इसी तरह से दलित समाज अगर टुकड़ो में बता रहेगा तो यह सरकार दलितों व अल्पसंख्यकों पर इसी  तरह से अत्याचार व मनमानी करती रहेगी |
फरीदाबाद से सैकड़ो लोगो के साथ रामलीला मैदान में पहुंचे हुए कौमी एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष जमील खान ने मंदिर विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मंदिर तोड़कर सरकार ने दलितों की भावनाओं को चोट पहुंचाने का काम किया है। वे सरकार को चेतावनी देते हैं कि 26 नवंबर तक संत रविदास के मंदिर को दोबारा बनवाने पर वह फैसला लें। अगर सरकार ऐसा नहीं करती है तो इसके बाद भारत बंद का आयोजन किया जाएगा।
जमील खान ने आगे कहा की भाजपा सरकार पहले करोड़ों दलित बहनों-भाइयों की सांस्कृतिक विरासत के प्रतीक रविदास मंदिर स्थल से खिलवाड़ करती है और जब देश की राजधानी में हजारों दलित भाई-बहन अपनी आवाज उठाते हैं तो भाजपा उन पर लाठी बरसाती है, आंसू गैस चलवाती है, गिरफ़्तार करती है।'
तुगलकाबाद वन क्षेत्र में तोड़े गए संत रविदास के मंदिर को दोबारा बनवाने के लिए दलित समाज के संगठनों ने बुधवार को प्रदर्शन किया। दिल्ली के रामलीला मैदान में हुए इस प्रदर्शन में दलित समाज के अनेक संगठनों ने भागीदारी की। प्रदर्शन के दौरान कई जगहों पर हिंसक घटनाएं भी होने की खबर आई।

Post A Comment:

0 comments: