फरीदाबाद , 2 सितंबर। 
 उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अतुल कुमार द्विवेदी ने कहा कि जिला में मतदाताओं को अधिक से अधिक मतदान के प्रति जागरूक करने के लिए और ऐसे युवकों/युवतियों  जिनकी आयु एक जनवरी 2019 को अठारह वर्ष हो गई है उन्हें अपना वोट बनवाने के प्रेरित करें ।
 उन्होंने कहा कि मतदाताओं को जागरूक करके सम्भावित  विधानसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत को बढ़ाने पर विशेष फोकस किया जाए।उन्होंने कहा कि  मतदान करना प्रत्येक मतदाता का ऐसा अधिकार है, जो उसे लोकतंत्र में विशिष्ट स्थान प्रदान करता है। मतदान की बढ़ती प्रतिशतता स्वस्थ लोकतंत्र की निशानी है। उन्होंने कहा कि जिला में विशेष जागरूकता अभियान चलाया जाए कि आगामी विधानसभा सभा चुनाव में गत लोकसभा चुनाव के मुकाबले मतदाता अधिक मतदान  करके लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूत करने में भागीदार बनें ।
उन्होंने कहा कि सभी निर्वाचक पंजीयन अधिकारी यह सुनिश्चित करें, कि उनके विधानसभा क्षेत्र में मतदाताओं को जागरूक करने के लिए विविध गतिविधियां आयोजित की जाएं। इसके लिए स्कूल-कॉलेजों में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करवाए जाएं तथा पोस्टर, बैनर, स्लोगन व पेंटिंग प्रतियोगिताएं भी आयोजित करवाई जाएं। इसके लिए प्रचार माध्यमों का भी सदुपयोग किया जाएगा। सरकारी सेवाएं प्रदान करने वाले सभी केंद्रों पर आने वाले व्यक्तियों, युवाओं, महिलाओं व लड़कियों को भी जागरूक किया जाए। उन्होंने कहा कि जिला में भी कॉलेज व विश्वविद्यालय में जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन करवाया जाएगा।
उपायुक्त ने बताया कि फाइनल इलैक्टर रोल का प्रकाशन के मुताबिक  जिला में कुल मतदाताओं की संख्या सर्विस वोटर्स सहित 14 लाख 94 हजार 72 हो गई  है। स्वीप गतिविधियों के अंतर्गत यह भी सुनिश्चित किया जाए कि पहली बार मतदान करने वाले युवाओं को मतदान प्रक्रिया के संबंध में समुचित रूप से प्रशिक्षित व जागरूक किया जाए।
उन्होंने बताया कि जिला में पात्र व्यक्तियों के नए वोट बनाने की प्रक्रिया निरंतर जारी है। जो पात्र युवा अभी तक किसी कारणवश अपना वोट नहीं बनवा सके हैं, वे अपने बीएलओ से मिलकर वोट बनवा लें। उन्होंने कहा कि प्रशासन का प्रयास है कि सभी पात्र व्यक्तियों के वोट बनाकर उनकी चुनाव में भागीदारी सुनिश्चित की जाए ताकि लोकतंत्र को सार्थक किया जा सके।
फाइल फोटो संलग्र उपायुक्त अतुल द्विवेदी ।
000


हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की महत्वाकांक्षी परियोजना बाल सलाह, परामर्श व् कल्याण केन्द्रों की स्थापना के अन्तर्गत फरीदाबाद के सेक्टर-49, सैनिक कॉलोनी स्थित सैंट जॉन स्कूल के बच्चों हेतु जिले के 13वें तथा राज्य के 76वें कल्याण केन्द्र की स्थापना करते हुए राज्य परियोजना नोडल अधिकारी अनिल मलिक ने बताया कि इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य है राज्य के सभी बच्चों विशेष तौर से किशोरावस्था के बच्चों की नैतिक, भावनात्मक, शारीरिक व मानसिक बदलाव के दौर में उम्र विशेष के परिवर्तन तथा सामाजिक व् घरेलू वातावरण सम्बन्धी समायोजन हेतु उत्पन्न हो रही समस्याओं के निवारण के साथ-साथ हम-समूह के दोस्तों का दबाव, पढ़ाई के प्रति रुचि, एकाग्रता इत्यादि विषयों पर मदद करना | हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद का यह प्रयास है कि समस्त राज्य के बच्चे मानसिक व भावनात्मक तौर से सशक्त बनें |
इस अवसर उपस्थित किशोरावस्था के बच्चों व् उनके शिक्षकों हेतु "किशोरावस्था मनोवैज्ञानिक परामर्श - बाल शोषण बचाव हेतु स्वस्थ वातावरण में सहायक" विषय पर आयोजित सेमिनार को सम्बोधित करते हुए मुख्य वक्ता के तौर पर अनिल मलिक ने कहा कि किशोरावस्था भावुक, अशान्त व् जिज्ञासु होती है | इस दौरान किशोर का मन अस्थिर रहता रहता है | जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वह खुद की माता-पिता से तुलना करके यह महसूस करता है कि मैं भी अब बड़ा हो गया हूँ |
आज जबकि वातावरण में बाल शोषण जैसे मुद्दों पर नकारात्मकता फैली हुई है | पारिवारिक संस्था में मुख्यतः माता-पिता, शिक्षण संस्थान में शिक्षक तथा परामर्शदाता मिल-जुलकर बच्चों में उनके शारीरिक व् भावनात्मक तौर से देखने का नजरिया, बात करने की समझ इस तरह से पैदा कर सकते हैं कि व्यवहारिक दृष्टिकोण से बच्चा आसपास के वातावरण में क्या उचित है और क्या अनुचित है, समझ सके | मनोवैज्ञानिक परामर्श ही एक तरीका है जो बढ़ती हुई उम्र में बच्चों को सही और गलत की समझ दे सकता है और बच्चे शोषण से बच सकते हैं | किशोर बच्चों के लिए प्रेरणादायी शब्द, प्रशंसनीय वातावरण तथा मित्रवत व्यवहार अति आवश्यक है |
कार्यक्रम की अध्यक्षता स्कूल प्राचार्या पूनम कालरा तथा जिला बाल कल्याण अधिकारी सुन्दर लाल खत्री द्वारा संयुक्त रूप से की गयी |मंच संचालन उदयचंद राज्य परियोजना कोऑर्डिनेटर ने बड़ी खूबी से किया तथा परियोजना को समझाया। इस अवसर पर विशेष तौर से  हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की आजीवन सदस्या अन्जू यादव, परामर्शदात्री गीता सिंह व समाजसेवक लाखन सिंह लोधी, यशोदा वाईस प्रिंसिपल व गोपा कुमार विशेष रूप से उपस्थित रहे व उनकी भूमिका बहुत सराहनीय रही | कार्यक्रम के समापन पर स्कूल डायरेक्टर देवेंद्र सेठी ने धन्यवाद प्रस्ताव पारित करते हुए कहा कि इस महत्वाकांक्षी परियोजना की जितनी तारीफ की जाए कम है | यह आज के समय की जरूरत भी है और हम इस बात के लिए शुक्रगुजार हैं कि बाल कल्याण परिषद के माध्यम से ऐसी सेवाएं बच्चों के लिए शुरू की गयी हैं |
000

फरीदाबाद ,2 सितंबर ।
 सड़क सुरक्षा के नियमों की पालना गंभीरता के साथ करना सुनिश्चित हो। नियमों की अवहेलना करने वाले के खिलाफ नियमानुसार सख्त से सख्त कार्रवाई करना सुनिश्चित करें । यह निर्देश फरीदाबाद के एसडीएम भारत भूषण गोगिया ने जिला सड़क सुरक्षा कमेटी की बैठक में उपस्थित अधिकारियों को दिए।
  बैठक में सीटीएम नवीन कुमार, एसीपी अभिमन्यु,  शिक्षा, चिकित्सा ,आरटीए, ट्रैफिक पुलिस ,एचएसवीपी, एमसीएफ व अन्य विभागों के अधिकारी तथा कर्मचारी और सड़क सुरक्षा से संबंधित संस्थाओं प्रतिनिधि उपस्थित थे।  बैठक को संबोधित करते हुए एसडीएम भारत भूषण गोगिया ने कहा कि सड़क सुरक्षा एक्ट  प्लान सर्वोच्च न्यायालय की गाइडलाइन के अनुसार करना सुनिश्चित करें । उन्होंने कहा कि नेशनल हाईवे पर हो रही दुर्घटनाए चिंतनीय विषय है।  जिस विभाग का सङक सुरक्षा के नियमों के मद्देनजर जो भी दायित्व है ,उसे निर्धारित समयावधि में पूरा करना सुनिश्चित करें। इस बारे लिखित में जिला सङक सुरक्षा समिति को अवगत करवाया जाए ।
   एसडीएम ने बैठक में रखे गए सभी एजेंडो  पर एक-एक करके बारीकी से जानकारी लेकर संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए।  बैठक में सड़क दुर्घटनाओं में की पूरी जानकारी लेने ,  जिला में दुर्घटनाग्रस्त क्षेत्रों की पहचान , नए ब्लॉक की पहचान , ऑटो नियमों की पालना न करने वाले लोगों के चालान काटने, स्पीड ब्रेकर, लाइटिंग, ओवर  ब्रिज,  वाहनों की पार्किंग,सीसीटीवी कैमरे लगाने , वाहनों पर ट्रैफिक  रिफ्लेक्ट, ट्रैफिक नियमों के बोर्ड लगाने सहित तमाम  विषयों पर एक- एक करके जानकारी ली गई और सुझाव भी साझा किए गए।
  फोटो कैप्शन- एसडीएम भारत भूषण गोगिया बैठक को संबोधित करते हुए साथ में सीटीएम नवीन कुमार व  एसीपी अभिमन्यु तथा उपस्थित अन्य ।
000

Post A Comment:

0 comments: