*भागवत सेवा संस्था एवं श्री गुरु कार्ष्णि कृपा धाम ट्रस्ट ने पेश की मानवता की मिसाल*

मथुरा /  राष्ट्रीय राजमार्ग छटीकरा पर दिन रात दिल्ली गुड़गांव फरीदाबाद एनसीआर से  पैदल चलकर आने वाले दिहाड़ी मजदूर एवं राहगीर जो अपने गंतव्य स्थान को प्रस्थान कर रहे  भूखे प्यासे लोगों को
 दोनों संस्थाओं की ओर से भोजन पैकेट वितरित किए जा रहे हैं और इन समाजसेवियों ने अपने संपर्क सूत्र भी जगह-जगह दिए हुए हैं और कहा है कोई भी यात्री साधु संत भिकारी भोजन की आवश्यकता दिखे तो तुरंत हमसे संपर्क करें हम हर संभव मदद उन तक पहुंचाएंगे लॉक डाउन के प्रथम दिन से ही धर्म रक्षा संघ निरंतर कर्फ्यू में फंसे यात्री व अन्य की मदद में लगे हुए हैं।

कार्ष्णि श्री नागेंद्र महाराज जी ने बताया नर सेवा ही नारायण सेवा है और यह हमारा सहयोग लॉक डाउन के अंत तक चलता रहेगा अगर आगे भी कोई स्थिति बनती है तो हम यह सेवा ऐसे ही जारी रखेंगे वहीं पर मौजूद अनुराग कृष्ण शास्त्री ने कहा कि जब जब प्रकृति से छेड़छाड़ होगी यह आपदाएं आती रहेंगी इंसानों को इंसानों का ही काम करना चाहिए प्रकृति से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए

राष्ट्रीय राजमार्ग सहित तमाम जगहों पर जाकर भोजन आश्रितों को भोजन सामग्री एवं भोजन वितरण करते रहे और जितने भी लोग मिले सबको लॉक डाउन सिस्टम को फॉलो करने का अनुरोध करने के साथ ही कोराना वायरस कोविड-19 से बचाव के तरीके समझाएं
महाराज श्री ने अपनी पूरी टीम के साथ सोशल डिस्टेंस को बनाए रखा और दूसरों से भी डिस्टेंस बनाने का अनुरोध किया जहां-जहां भोजन वितरण किया सोशल डिस्टेंस को फॉलो किया

राष्ट्रीय राजमार्ग से जिन ट्रकों में लोग भरकर जा रहे थे उनको रोककर पैदल जाने वालों को रोक कर भोजन तो वितरण किया ही वही चिंता जाहिर की जब देखा के ट्रकों में लोग बिना मास्क सेने
टाइज के एक दूसरे से सटकर बैठना सफर तय करना बहुत ही रिस्की है कहीं ऐसा ना हो अपने घर जो वापस जा रहे हैं अनजाने में अपनों के लिए तोहफे में उनको कोरोनावायरस संक्रमित के शिकार ना हो जाए

जबसे लॉक डाउन का एनाउंस हुआ है सुबह से शाम तक मानव रूपी ईश्वर का प्रतिनिधित्व करने वाले संतों का पूरा दिन ऐसे ही मदद करते हुए गुजर जाता है।


मथुरा शहर के अंदर और बाहर बहुत-बहुत बड़े धनाढ्यों के नाम आते हैं लेकिन आज चेहरे नजर नहीं आ रहे हैं

Post A Comment:

0 comments: