प्रमोद कुमार जायसवाल की रिपोर्ट :-नई दिल्ली एयरपोर्ट यह है कि यहां भी एयर ट्रैफिक लगभग ना के बराबर हो गया है। जैसै-जैसे उड़ाने कम हुईं, टिकट के दाम बढ़ते गए। इसी का असर था कि घरेलू उड़ानों के एक तरफ के टिकट के दाम 30 हजार रुपये से भी ज्यादा ऊपर तक पहुंच गए हैं। अब फिलहाल सभी तरह की उड़ानें रोक दी गई हैं। पहली बार ऐसा हुआ है, जब घरेलू उड़ानों पर भी पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है।
मुंबई से दिल्ली की टिकट 16 हजार में , कोच्चि की 11 हजार में, कोलकाता की 14,500 में, जयपुर की 31,500 में और हैदराबाद की टिकट 8,500 रुपये में बिकी। मंगलवार शाम को दिल्ली के लिए सिर्फ प्रीमियम क्लास में टिकट थी और उसका दाम 36,000 रुपये पहुंच गया था। थोड़ी और देर बाद ये टिकट भी खत्म हो गए। धीरे-धीरे यात्रियों की संख्या भी घट गई।

छोटे फ्लैट में आइसोलेशन मुश्किल इसलिए छोड़ दी मुंबई'
मुंबई एयरपोर्ट के डोमेस्टिक टर्मिनल-1 पर मंगलवार को दिखने वाले ज्यादातर लोग 20 से 30 साल की उम्र के थे। आईटी कंपनी में काम करने वाले 26 साल के सुजित राय ने बताया कि वह तीन घंटे पहले ही एयरपोर्ट आ गए। उन्होंने कहा, 'मैं एक छोटे से फ्लैट में दो दोस्तों के साथ रहता हूं। हमने ऐसे लॉकडाउन की उम्मीद नहीं की थी। इतने छोटे घर में हम खुद को आइसोलेट नहीं कर सकते इसलिए यहां से जाना ही पड़ेगा।'
भारत में पहली बार ऐसा हुआ है कि डोमेस्टिक फ्लाइट्स भी रोक दी गई हैं। एक एयरलाइन के डायरेक्टर बताते हैं कि इस समय समस्या उन लोगों के लिए होगी, जिन्हें सचमुच कोई इमर्जेंसी है। साथ ही साथ इससे हमारी बैलेंस शीट पर भी बुरा असर पड़ेगा। मंगलवार को मुंबई से दिल्ली के लिए गोएयर की आखिरी
फ्लाइट रात 9:35 बजे थी। लास्ट अराइवल वाली फ्लाइट रात 11:50 की थी, जो दिल्ली से ही आई। इसके बाद से सरकारी विमान, मेडिकल इमर्जेंसी और स्पेशल परमिशन वाले विमान ही उड़ रहे हैं। इंटरनैशलन फ्लाइट पहले से ही बंद है।
'घबराहट में घर में न भरें सामान, पूरे 21 दिन खुली रहेंगी दुकानें'
(कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अपने घर में रहें और सुरक्षित रहें। लॉकडाउन और कर्फ्यू का पालन करें, घबराने की जरूरत नहीं है। सभी जरूरी चीजें पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं)।

Post A Comment:

0 comments: