विष्णु दयाल ब्यूरो चीफ फरीदाबाद


फरीदाबाद, 3 मार्च: मानव रचना में मेडिकल लाइब्रेरियन के लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए, मेडिकल लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ इंडिया की ओर से तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान मेडिकल इंफॉर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी में उभरता रुझानों पर चर्चा की जा रही है। इस अधिवेशन का उद्देश्य शिक्षाविदों, स्वास्थ्य विज्ञान पेशेवरों, पुस्तकालयाध्यक्षों और शोधकर्ताओं को चिकित्सा सूचना प्रबंधन के गतिशील और चुनौतीपूर्ण दुनिया से संबंधित मुद्दों पर आधारित चर्चा में शामिल होने का अवसर प्रदान करना है।

इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहेवियर एंड एलाइड साइंसिस (IHBAS) के डायरेक्टर और जाने-माने मनोवैज्ञानिक डॉ. निमेश देसाई ने कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने सभी से कहा कि वह आत्म-पहचान को कभी कष्ट न दें। उन्होंने कहा कि, आज के समय में ज्ञान एकत्रित करना चुनौती नहीं है, बल्कि ज्ञान को बेहतर तरीके से लागू करना एक बड़ी चुनौती है। ज्ञान की विश्वसनीयता मायने रखती है और हमें यहीं अधिक ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।

उद्घाटन सत्र के दौरान MLAI19 पुरस्कारों की भी घोषणा की गई

·        बेस्ट फीमेल मेडिकल लाइब्रेरियन अवार्ड नीलिमा चड्ढा, पीजीआईएमईआर, चंडीगढ़

·        द आरपी कुमार MLAI यंग लाइब्रेरियन अवॉर्ड कुमर अब्बास, जेएलएन मेडिकल कॉलेज, अजमेर

·        द जीएम कुमार बेस्ट पेपर अवॉर्ड डॉ. राकेश मोहिंद्रा, पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़

·         द एमएलएआई इलेक्टिड फेलो अवॉर्ड डॉ. राज कुमार, चंडीगढ़

·        द एमएलएआई लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड डॉ. जेएन सतपथी, कोलकता

कार्यक्रम में मानव रचना शैक्षणिक संस्थान के डीजी डॉ. एनसी वाधवा ने बतौर गेस्ट ऑफ हॉनर हिस्सा लिया। इस दौरान एमआरयू के वीसी डॉ. आईके भट्ट, डॉ. विक्रम शर्मा, डॉ. आरपी कुमार, उपाध्यक्ष, MLAI,  डॉ. राज कुमार, सचिव, एमएलएआई समेत कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

Post A Comment:

0 comments: