प्रमोद कुमार जायसवाल की रिपोर्ट :-नेशनल डेस्क: पूरे विश्व में महामारी के रूप में फैला कोरोना वायरस अब भारत में भी अपने पैर पसार चुका है चाहे केंद्र सरकार हो या राज्य सरकार सभी कोरोना वायरस को लेकर आम जनमानस से घर में रहने की अपील करने को मजबूर हैं….
देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए मोदी सरकार पूरी कोशिश कर रही है। इसके तहत कई अहम कदम भी उठाए जा रहे हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) कोरोना महामारी पर देश को आज दूसरी बार संबोधित कर रहे हैं। पीएम मोदी ने इस दौरान ऐलान किया कि आज रात 12 बजे से पूरे देश में लॉकडाउन किया जा रहा है। देश में यह लॉकडाउन 21 दिन के लिए होगा। यह जनता कर्फ्यू से आगे का कदम है. यह कदम हर हिंदुस्‍तानी को बचाने के लिए लिया जा रहा है।
पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि हर भारतीय ने जनता कर्फ्यू को सफल बनाया है। हर भारतीय ने पूरी जिम्‍मेदारी के साथ जन कर्फ्यू में योगदान दिया है। आप सभी प्रशंसा के पात्र हैं।
पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस से बचने का एकमात्र उपाय है सोशल डिस्‍टेंसिंग. इसके अलावा कोई और उपाय नहीं है। कुछ लोग इस गलतफहमी में हैं कि सोशल डिस्‍टेंसिंग सिर्फ बीमारों के लिए है। यह सही नहीं है. यह सभी नागरिकों के लिए है, प्रधानमंत्री के लिए भी है।
उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को तोड़ने के लिए 21 दिन का समय काफी अहम है। अगर 21 दिन में नहीं संभले तो आपका परिवार और देश 21 साल पीछे चला जाएगा और कई परिवार हमेशा-हमेशा के लिए तबाह हो जाएगा।
पीएम ने कहा कि मैं ये बात पीएम के तौर पर नहीं बल्कि परिवार के सदस्य के तौर पर कह रहा हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आपका से निकलने वाला एक कदम कोरोना को घर में ला सकता है। उन्होंने कहा कि शुरुआत में किसी आदमी के संक्रमण का पता ही लगता है।
पीएम मोदी ने कहा कि मुझे विश्वास है हर भारतीय संकट की इस घड़ी में सरकार के, स्थानीय प्रशासन के निर्देशों का पालन करेगा। 21 दिन का लॉकडाउन, लंबा समय है, लेकिन आपके जीवन की रक्षा के लिए, आपके परिवार की रक्षा के लिए, उतना ही महत्वपूर्ण है।
पीएम मोदी ने कहा कि मेरी आपसे प्रार्थना है कि इस बीमारी के लक्षणों के दौरान, बिना डॉक्टरों की सलाह के, कोई भी दवा न लें। किसी भी तरह का खिलवाड़, आपके जीवन को और खतरे में डाल सकता है।
पीएम मोदी ने कहा कि इससे कोरोना से जुड़ी टेस्टिंग फेसिलिटीज, पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्वीपमेंट्स, आइसोलेशन बेड्स, ICU बेड्स, वेंटिलेटर, और अन्य जरूरी साधनों की संख्या तेजी से बढ़ाई जाएगी। मैंने राज्य सरकारों से अनुरोध किया है कि इस समय उनकी पहली प्राथमिकता, सिर्फ और सिर्फ स्वास्थ्य सेवाएं ही होनी चाहिए, हेल्थ केयर ही प्राथमिकता होनी चाहिए।
पीएम मोदी ने कहा कि अब कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए, देश के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को और मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार ने आज 15 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।
पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी से बनी स्थितियों के बीच, केंद्र और देशभर की राज्य सरकारें तेजी से काम कर रही है। रोजमर्रा की जिंदगी में लोगों को असुविधा न हो, इसके लिए निरंतर कोशिश कर रही हैं।
पीएम मोदी ने कहा कि उन डॉक्टर्स, उन नर्सेस, पैरा-मेडिकल स्टाफ, pathologists के बारे में सोचिए, जो इस महामारी से एक-एक जीवन को बचाने के लिए, दिन रात अस्पताल में काम कर रहे हैं। आप उन लोगों के लिए प्रार्थना करिए जो आपकी सोसायटी, आपके मोहल्लों, आपकी सड़कों, सार्वजनिक स्थानों को sanitize करने के काम में जुटे हैं, जिससे इस वायरस का नामो-निशान न रहे।
पीएम मोदी ने कहा कि भारत आज उस स्टेज पर है जहां हमारे आज के एक्शन तय करेंगे कि इस बड़ी आपदा के प्रभाव को हम कितना कम कर सकते हैं। ये समय हमारे संकल्प को बार-बार मजबूत करने का है. ये धैर्य और अनुशासन की घड़ी है। जब तक देश में lockdown की स्थिति है, हमें अपना संकल्प निभाना है, अपना वचन निभाना है।
पीएम मोदी ने कहा कि हमें भी ये मानकर चलना चाहिए कि हमारे सामने यही एक मार्ग है- हमें घर से बाहर नहीं निकलना है। चाहे जो हो जाए, घर में ही रहना है।
पीएम मोदी ने कहा कि यही वजह है कि चीन, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, इटली-ईरान जैसे देशों में जब कोरोना वायरस ने फैलना शुरू किया, तो हालात बेकाबू हो गए। उपाय क्या है, विकल्प क्या है? कोरोना से निपटने के लिए उम्मीद की किरण, उन देशों से मिले अनुभव हैं जो कोरोना को कुछ हद तक नियंत्रित कर पाए।
पीएम मोदी ने कहा कि यही वजह है कि चीन, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, इटली-ईरान जैसे देशों में जब कोरोना वायरस ने फैलना शुरू किया, तो हालात बेकाबू हो गए। उपाय क्या है, विकल्प क्या है…….?
कोरोना से निपटने के लिए उम्मीद की किरण, उन देशों से मिले अनुभव हैं जो कोरोना को कुछ हद तक नियंत्रित कर पाए।
पीएम मोदी ने कहा कि आपको ये याद रखना है कि कई बार कोरोना से संक्रमित व्यक्ति शुरुआत में बिल्कुल स्वस्थ लगता है, वो संक्रमित है इसका पता ही नहीं चलता। इसलिए ऐहतियात बरतिए, अपने घरों में रहिए।
पीएम मोदी ने कहा कि घर में रहें, घर में रहें और एक ही काम करें कि अपने घर में रहें। आज के फैसले ने, देशव्यापी लॉकडाउन ने आपके घर के दरवाजे पर एक लक्ष्मण रेखा खींच दी है।

Post A Comment:

0 comments: