प्रमोद कुमार जायसवाल की रिपोर्ट -: *नई दिल्ली:* कोरोना वायरस के चलते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 31 मार्च तक राष्ट्रीय राजधानी में तालाबंदी की घोषणा की. केजरीवाल ने कहा कि कल सुबह 6 बजे से दिल्ली के अंदर तालाबंदी लागू की जाएगी, यह 31 मार्च तक लागू रहेगा. कोई भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट नहीं चलेगा. उन्होंने कहा, दिल्ली में अभी तक 27 मामले सामने आए हैं, उनमें से 6 को वायरस एक दूसरे से फैला है, 21 विदेशों से ही वायरस से संक्रमित होकर आए थे.


अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम जानते हैं कि इससे लोगों को परेशानी होगी लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन जरूरी है!

*जानिए- कौन सी सेवाएं रहेंगी जारी, कौन सी होंगी बंद*

कोई भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट सर्विस को चलने की इजाजत नहीं होगी. इसमें प्राइवेट बसें, टैक्सी, ऑटो रिक्शा, रिक्शा, ई-रिक्शा सब बंद रहेंगी डीटीसी की 25 फीसदी बसें चलेंगी ताकि जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने वाले लोग अपने गंतव्य तक जा सकें
दिल्ली के सारी दुकानें, बाजार, व्यापारिक प्रतिष्ठान, फैक्ट्री, वर्कशॉप, ऑफिस, गोदाम, साप्ताहिक बाजार ये सब बंद रहेंगे.
दिल्ली से सटे सारे बॉर्डर सील कर दिए जाएंगे. जरूरी सामानों जैसे दूध, सब्जियां, खाने-पीने के सामानों की आपूर्ति को इजाजत होगी
दिल्ली में सभी घरेलू उड़ानों, इंटर स्टेट बसें, मेट्रो, ट्रेन सर्विस, पर कल से 31 मार्च तक प्रतिबंध रहेगा.
सभी निजी कार्यालय बंद रहेंगे, लेकिन स्थायी और कॉन्ट्रैक्चुअल - दोनों कर्मचारियों को ऑन-ड्यूटी माना जाएगा. कंपनियों को इस अवधि के लिए उन्हें वेतन प्रदान करना होगा.
खाने-पीने, सब्जी, दूध, मीट-मछली, राशन की दुकानें खुली रहेंगी.
सारे बैंक खुल रहेंगे ताकि लोगों को पैसे निकालने में दिक्कत ना हो.
मेडिकल स्टोर, हॉस्पिटल, वॉटर प्लांट्स, अस्पताल खुले रहेंगे.
अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा कि जिन घरों में लोग क्वोरैंटाइन में रह रहे हैं, उन घरों को चिन्हित किया जा रहा है. लेकिन आसपास रहने वाले लोग ऐसे परिवारों को कलंकित न करें बल्कि उनके साथ सहानुभूति और सहयोगात्मक रवैया रखें. केजरीवाल सरकार उन लोगों के हाथ पर स्टैम्प लगा रही है जिन लोगों को घर पर ही क्वोरैंटाइन किया गया है. ताकि जो लोग इन आदेशों का पालन न कर रहे हों, उन्हें चिन्हित किया जा सके.


*इन लोगों को दी चेतावनी*

अरविंद केजरीवाल ने मास्क, सैनिटाइजर की कालाबाजारी करने वालों को लेकर कहा कि ऐसा करने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. साथ ही प्राइवेट कंपनियों को चेताते हुए उन्होंने कहा कि सभी निजी कार्यालय बंद रहेंगे, लेकिन स्थायी और कॉन्ट्रैक्चुअल - दोनों कर्मचारियों को ऑन-ड्यूटी माना जाएगा. कंपनियों को इस अवधि के लिए उन्हें पूरी सैलरी देनी होगी अगर उन्होंने ऐसा करने से मना किया तो उनके खिलाफ भी एक्शन लिया जाएगा.!

Post A Comment:

0 comments: