जनपद में कोरोना वायरस से लड़ने की तैयारियों का लिया जायजा
अस्पताल की डायलिसिस मशीन को तुरन्त चालू किया लाये
थर्मल स्कैनर एवं पीपीई किट और खरीदी जायें
हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में आवश्यक सामग्रियों की सप्लाई एवं सुरक्षा की जानकारी प्राप्त की
आईसोलेशन एवं क्वांरटीन सेन्टरों की व्यवस्था के संबंध में ली जानकारी
लाॅक डाउन में पुलिस के कार्यों की भी समीक्षा की
मथुरा 07 मई/ सचिव शहरी विकास अनुराग यादव ने कलेक्टेªट सभागार में जनपद में की गई गयी कोरोना वायरस की तैयारियों के संबंध में जानकारी लेते हुए निर्देश दिये कि प्रत्येक हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में किये गये सर्वे एवं उसमें मिले संदिग्ध व्यक्तियों तथा की गयी सैम्पलिंग की रिपोर्ट कल तक उनके समक्ष प्रस्तुत की जाये। उन्होंने प्रत्येक हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में घरों की संख्या, सम्पर्क टैªसिंग, वर्तमान में आईसोलेशन एवं क्वांरटीन में रखे गये व्यक्तियों की संख्या तथा उनको दिये जाने वाले भोजन के संबंध में भी विस्तृत जानकारी प्राप्त की।
शहरी विकास सचिव को बताया गया कि जनपद में 05 हाॅटस्पाॅट क्षेत्र, 11 एपी सेन्टर, 1550 लोगों की सैम्पलिंग की गयी, 172 केस पैंडिंग हैं। सचिव द्वारा जानकारी ली गयी थी कि कोरोना पाॅजिटिव की रिपोर्ट आने के पश्चात किस प्रकार पूरी कार्यवाही की जाती है। जिस पर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि क्षेत्र को हाॅटस्पाॅट करके 04 टीम गठित की गयी हैं, जो तुरन्त जाकर क्षेत्र का सर्वे करती है एवं जो लोग सस्पेक्टेड होते हैं, उनकी सैम्पलिंग करके भेज दी जाती है।
श्री यादव को बताया गया कि जनपद में पर्याप्त मात्रा में एल-1, एल-2 अस्पतालों को बनाया गया है, जिसमें के0डी हाॅस्पिटल में 600 बेड, के0एम0 में 600 बेड हैं, के0डी0 के 50 तथा के0एम0 के 50 बेड लिये गये हैं। दोनों अस्पतालों में वेन्टिलेटरों की सुविधा भी उपलब्ध है। आवश्यकता पड़ने पर अन्य बेड़ों को भी ले लिया जायेगा। उन्होंने बताया कि क्वांरटीन करने के लिए पर्याप्त मात्रा में क्वांरटीन सेन्टर बनाये गये हैं तथा व्यक्तियों की संख्या बढ़ने की स्थिति में अनेक नये स्थानों को भी चयनित कर लिया गया है। सचिव को बताया कि अब तक 205 व्यक्ति डिस्चार्ज किये गये तथा 272 व्यक्तियों को क्वांरटीन किया गया, जिसमें 66 लोग तब्दीली जमात से संबंधित हैं।
शहरी विकास सचिव ने निर्देश दिये कि जिला अस्पताल में खांसी, बुखार एवं अन्य कोई कोरोना वायरस से संबंधित लक्ष्णों के व्यक्तियों को अलग से देखा जाये तथा अन्य बीमारियों से संबंधित व्यक्तियों को भी अलग देखकर उनका इलाज किया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि कोरोना यौद्धाओं के लिए आईसोलेशन एवं क्वांरटीन वार्डों तथा सैम्पलिंग करने वाले कर्मचारियों की पर्याप्त सुरक्षा की जाये और जो आवश्यक सामग्री जैसे पीपीई किट, मास्क, एवं अन्य सामान भी उपलब्ध कराया जाये। उन्होंने कहा कि प्राईवेट हाॅस्पिटलों को भी प्रशिक्षण देकर तुरन्त खुलवाया जाये, जिससे आम आदमियों को किसी प्रकार की परेशानी न हो।
श्री यादव ने निर्देश दिये कि हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में बनाये गये वैरियर पर आने-जाने वाले लोगों की थर्मल स्कैनिंग करायी जाये एवं प्रत्येक घरों में आवागमन कम किया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि अस्पताल की डायलिसिस मशीन को प्रत्येक दशा में तुरन्त चालू  किया जाये, जिससे लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने सीएमओ से कहा कि कोरोना वायरस के प्रकोप को दृष्टिगत रखते हुए और अधिक थर्मल स्कैनर एवं पीपीई किट खरीदी जायें, जिससे आगे परेशानी न हो।
जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने सचिव को बताया कि हाॅटस्पाॅट क्षेत्र में आवश्यक खाद्य सामग्री जैसे दूध, सब्जी, फल पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराये जा रहा हंै, जिसको हाॅटस्पाॅट क्षेत्र गेट के बाहर लोगों को उपलब्ध करा दिया जाता है। हाॅटस्पाॅट क्षेत्र के अन्दर रहने वाले व्यक्ति उसे लेकर पूरे क्षेत्र में वितरित कर देते हैं। उन्होंने बताया कि हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों को सेनेटाइज निरंतर कराया जा रहा है।
बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा0 गौरव ग्रोवर ने बताया कि हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों पुलिस बल लगाया है। जनपद में 09 एन्ट्री पाॅइंट हैं। पुलिस द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के प्रधानों से फोन पर वार्ता निरंतर कर बाहर से आने वाले लोगों की जानकारी ली जाती है। उन्होंने बताया कि पुलिस अधीक्षक नगर द्वारा सीनियर सिटीजनों का एक ग्रुप बनाया गया है, जिसमें वह अपनी आवश्यकता तथा परेशानियों के संबंध में जानकारी दे देते हैं, जिससे उनकी समस्याओं का निस्तारण तत्काल कर दिया जाता है।
इस अवसर पर नगर आयुक्त रविन्द्र कुमार मांदढ़, मुख्य विकास अधिकारी नितिन गौड़, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व बृजेश कुमार, नगर मजिस्टेट मनोज कुमार सिंह, सीएमओ डा0 शेर सिंह सहित अन्य संबंधित अधिकारीगण उपस्थित थे।

Post A Comment:

0 comments: