रिपोर्टर अजय सिंह
*बाढ़ के लिए नियंत्रण कक्ष का न0 06272-245055*
*नाव से भेजवाया गया असराहा व डीहटोल में भोजन*

दरभंगा,  जिलाधिकारी दरभंगा डॉ त्यागराजन एसएम के निर्देश पर वरीय पदाधिकारियों द्वारा आज भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया गया। जिला परिवहन पदाधिकारी सह वरीय प्रभारी पदाधिकारी, केवटी, श्री रवि कुमार, डीसीएलआर सदर श्री शादुल हसन, प्रखंड विकास पदाधिकारी श्री महेश चंद्र एवं अंचलाधिकारी श्री अजीत कुमार झा द्वारा आज केवटी अंचल के विभिन्न बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया गया। केवटी रनवे, खिरमा, वरिऔल और बाजितपुर में पोकलेन मशीन लगाकर पानी की निकासी करवायी गयी। 
अंचल अधिकारी केवटी श्री अजित कुमार झा ने बताया कि केवटी अंचल में 2 पंचायत पूर्णतः एवं 7 पंचायत अंशतः बाढ़ से प्रभावित हैं जिनमें असराहा, जलवाड़ा, कोठिया, पिंडारूच, शेखपुर गामी, मटियानी, लदारी, ननौरा, लहवाड़, ख़िरमा, पैगंबरपुर लालगंज, सरोजपुर और छतवन शामिल हैं। केवटी अंचल में बाढ़ प्रभावित परिवारों के लिए 11 स्थानों पर सामुदायिक रसोई चलाया जा रहा है तथा 2 नाव चलवाया जा रहा है। 272 बाढ़ प्रभावित परिवारों के बीच पॉलिथीन सीट का वितरण करवाया गया है। आज असराहा और डिहटोल के बाढ़ प्रभावितों के लिए नाव से भोजन भेजवाया गया।
अंचलाधिकारी किरतपुर ने बताया कि किरतपुर के 7 पंचायत पूर्णतया और एक पंचायत अंशतः बाढ़ प्रभावित है तथा जलस्तर में वृद्धि हुई है। बाढ़ प्रभावित लोगों के आवागमन की सुविधा के लिए 33 निःशुल्क नाव चलवाए जा रहे हैं। अब तक 135 परिवारों को पॉलिथीन सीट उपलब्ध कराया गया है तथा अपर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में बाढ़ प्रभावित परिवारों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है एवं निःशुल्क दवा वितरण किया जा रहा है।
अंचलाधिकारी घनश्यामपुर श्री दीनानाथ कुमार ने बताया कि घनश्यामपुर में पानी की स्थिति सामान्य है। गेहुआ बरसाती नदी में पानी तेजी से बढ़ रहा है। आज गेहुआ नदी का निरीक्षण किया गया। साथ ही असमा, कनकी मुशहरी और कमला पश्चिमी तटबंध का निरीक्षण श्री नलिनी रंजन, अधीक्षण अभियंता बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल झंझारपुर-2 एवं कनीय अभियंता श्री अश्विनी ठाकुर के साथ किया गया। वहाँ कई स्थलों पर रेन कट पाया गया जिसमे बाढ़ निरोधक कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आसमां में 40 घरों में पानी का प्रवेश कर गया है, वहाँ सामुदायिक रसोई चलाने का आदेश दिया गया है। वर्तमान में एक स्थल पर सामुदायिक रसोई चल रहा है, जिसमें 360 व्यक्तियों को भोजन कराया जा रहा है। आवागमन की सुविधा के लिए 20 नाव का परिचालन करवाया जा रहा है तथा 98 परिवारों को पॉलिथीन सीट उपलब्ध कराया गया है।
श्री त्रिवेणी प्रसाद, अंचलाधिकारी कुशेश्वरस्थान पूर्वी ने बताया कि कुशेश्वरस्थान पूर्वी के 6 पंचायत पूर्णतया एवं 4 पंचायत अंशतः बाढ़ से प्रभावित हैं। चौकिया में बाढ़ प्रभावित परिवारों के लिए सामुदायिक रसोई चलाया जा रहा है जिसमें 319 लोगों को भोजन करवाया जा रहा है। लोगों के आवागमन की सुविधा के लिए 49 नावों का परिचालन करवाया जा रहा है, जिसमें 13 सरकारी एवं 36 निजी ना हो शामिल है। अब तक 20 परिवारों को पॉलिथीन सीट उपलब्ध कराया गया है। एनडीआरएफ की टीम आज शनिचरा स्थान में भ्रमण कर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का जायजा लिया है।
आपदा प्रबंधन शाखा, दरभंगा द्वारा बताया कि दरभंगा जिला के केवटी, हायाघाट, गौड़ाबौराम, घनश्यामपुर, किरतपुर और कुशेश्वरस्थान पूर्वी के 50 पंचायत बाढ़ प्रभावित हैं, जिनमें 15 पंचायत पूर्णतः एवं 35 पंचायत अंशतः प्रभावित हैं, जिनमें पानी से घिरे गांवों की संख्या 123 है तथा प्रभावित जनसंख्या 57886 है। अभी तक केवल कुशेश्वरस्थान पूर्वी अंचल में 10 कच्चा मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। बाढ़ प्रभावित परिवारों के लिए 13 स्थलों में सामुदायिक रसोई चलाई जा रही है, जहाँ 2469 बाढ़ प्रभावित लोगों को सुबह शाम भोजन करवाया जा रहा है। मेडिकल टीम द्वारा बाढ़ प्रभावित गांव में प्रतिदिन स्वास्थ्य शिविर का आयोजन कर लोगों की स्वास्थ्य जांच कर निःशुल्क दवा उपलब्ध कराई जा रही है।
बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों के आवागमन के लिए निःशुल्क 154 नाव का परिचालन करवाया जा रहा है, जिनमें 120 निजी और 34 सरकारी नाव शामिल हैं। अब तक 712 परिवारों को पॉलीथिन शीट्स उपलब्ध कराया गया है। 
बाढ़ से संबंधित एवं प्रभावित परिवारों की मदद के लिए जिला स्तर पर जिला आपदा नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है जिसका दूरभाष नंबर 06272- 245055 है। इस नंबर पर बाढ़ से संबंधित किसी भी प्रकार की सूचना का आदान प्रदान किया जा सकता है।
जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एस एम ने सभी संबंधित प्रखंड के वरीय प्रभारी पदाधिकारियों को लगातार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर स्थिति पर नजर बनाए रखने का निर्देश दिया है।

Post A Comment:

0 comments: