विष्णु दयाल , ब्यूरो चीफ फरीदाबाद

फरीदाबाद, 1 जुलाई:  मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज के फैकल्टी ऑफ होटल मैनेजमेंट की ओर से छात्रों के लिए वेबिनार का आयोजन किया गया. इस वेबिनार में आने वाले समय में होस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में क्या बदलाव होंगे इस पर चर्चा की गई. वेबिनार में चैलै होटेल्स (Chalet Hotels) के एमडी, सीईओ संजय सेठी ने बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लिया और छात्रों के सामने अपने विचार रखे.

संजय सेठी ने बताया कि उनके पिता काफी ट्रैवल करते थे. उन्हें महसूस हुआ कि भारत में होस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में काफी अच्छा अवसर है. उनके पिता ने उन्हें यह फील्ड ज्वाइन करने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि इस इंडस्ट्री के ग्लैमर को देखते हुए भी मैं इसका हिस्सा बनने के लिए तैयार हो गया. उन्होंने भी होटेल्स में बर्तन, सफाई और अन्य काम से ही अपना करियर शुरू किया. 1991 में उन्हें ताज होटल में फूड एंड बेवरेज डिपार्टमेंट में मैनेजर बनने का मैका मिला, जिसके बाद उन्होंने अपने करियर में उड़ान भरी. आज वह चैले होटल्स की चेन चलाते हैं जिसमें मैरियट, JW मैरियट, वेस्टिन, नोवोटेल और फोर प्वाइंट्स बाय शेराटन शामिल हैं.

उन्होंने बताया कि उनके होटेल्स में सर-मैम से बात नहीं किया जता वहां फर्स्ट नेम से बुलाया जाता है. इसके अलावा पूरे स्टाफ का एक ही यूनिफॉर्म है. उन्होंने ऐसा स्टेप लेकर ट्रेडिशन चेंज करने की कोशिश की है. उन्होंने कहा कि, कोरोना की वजह से हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री फिल्हाल बंद है लेकिन आने वाले एक साल में सब नॉर्मल हो जाएगा. हालांकि काम करने के तरीके में काफी बदलाव आएगा.

डॉ. अमित भल्ला ने संजय सेठी का धन्यवाद किया. उन्होंने कहा कि, कोविड-19 के कारण सबसे ज्यादा हॉस्पिटैलिटी और ट्रैवल इंडस्ट्री पर असर पड़ा है क्योंकि हम सब घर पर हैं. न सिर्फ हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में बदलाव आएगा बल्कि शिक्षण संस्थानों में भी काफी बदलाव आया है, जैसे कि ऑनलाइन टीचिंग का. उन्होंने बताया कि मानव रचना के टीचर्स स्पेशल चाइल्ड के लिए काम कर रहे हैं.  

कार्यक्रम में एमआरआईआईआरएस के वीसी डॉ. संजय श्रीवास्तव, द हिंदु अख़बार के विजय लोकपल्ली, फैकल्टी ऑफ होटल मैनेजमेंट के डायरेक्टर एसएस सलूजा, एचओडी रितिका सिंह समेत छात्र और फैकल्टी मेंबर्स मौजूद रहे.

Post A Comment:

0 comments: