रिपोर्टर---   दीपक कुमार शर्मा  DELHI

अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिए 5 अगस्त 2020 को भूमि पूजन सम्पन्न हो गया. यह भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों सम्पन्न हुआ. इस दौरान राम मंदिर के लिए नौ आधारशिला रखी गईं. भूमि पूजन कार्यक्रम से पहले पीएम मोदी ने हनुमानगढ़ी में पूजा और दर्शन किए. इसके बाद वह श्री राम जन्मभूमि पहुंचे. वहां पीएम मोदी ने भगवान श्री राम लला विराजमान की पूजा और दर्शन किया और परिजात का पेड़ लगाया. इसके बाद मंदिर का भूमि पूजन सम्पन्न हुआ.पांच अगस्त को अयोध्‍या में श्रीराम मंदिर का भूमि पूजन एवं शिलान्यास किया गया! इस दिन को महापर्व के रूप में मनाया गया है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद सहित अन्य संगठनों व आम जन ने इस दिन न केवल दीप प्रज्ज्वलित किए  बल्कि मंदिरों में राम-नाम की गूंज सुनाई दी। उत्तर प्रदेश के ज़िला अलीगढ़ के क़स्बा चंडौस में श्री भोगीराम शर्मा रामलीला कमेटी के अध्यक्ष की ओर से अधिक से अधिक लोगों को दीप प्रज्जवलित करने के लिए प्रेरित किया।उन्होंने कहा राम जन्मभूमि के विवाद में असंख्य लोगों ने अपनी शहादत दी है. वर्ष 1527 से लेकर भारत की आजादी तक रामलला की मूर्ति की स्थापना को लेकर लंबा संघर्ष चला. इतिहास इस बात का गवाह है कि बाबर के समय एक लाख 74 हजार हिंदुओं का कत्लेआम हुआ. अब न्यायालय के माध्यम से इस समस्या का हल हो गया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रामलला के मंदिर की नींव रख रहे हैं. हमारे पुरखों ने जो शहादत दी थी, उसी का परिणाम आज हमें देखने को मिल रहा है. हम भाग्यशाली हैं, जो 500 साल के संघर्ष के बाद एक खुशी मिली है, उसके हम सब प्रत्यक्षदर्शी हैं। जिस दिन अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास हुआ उस दिन से लगातार क़स्बा चंडौस के बैट मोहल्ले के लोग अपने अपने घरों में देसी घी का दीपक जलाकर ख़ुशियाँ मना रहे है जिसमें युग शर्मा ,कृष्णा शर्मा,शिवम्,विशाल  शरद वार्ष्णेय एवं गली मोहल्ले के अन्य बच्चों का मुख्य किरदार रहा है इस बार ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसे दिवाली इस बार जल्दी आ गयी हो!




Post A Comment:

0 comments: