रिपोर्टर मनोज कुमार


शनिवार २६ सितंबर २०२०

महराजगंज बृजमनगंज थाना क्षेत्र के अंतर्गत बनगड़िया पट्रोल पम्प के सामने हुये राजू हत्याकांड का बृजमनगंज पुलिस ने 24 घंटे के अंदर किया खुलासा सफल अनवारण करते हुए हत्या का एक नफ़र अभियुक्त किया गया गिरफ्तार अपराध एवं अपराधियों पर प्रभावी नियंत्रण बनाये रखने के लिए पुलिस अधीक्षक महराजगंज के निर्देश पर बृजमनगंज पुलिस द्वारा तहरीर थाना स्थानीय पर मु0आ 0स 0 218/2020 धारा 302,201 भदवी बनाम अज्ञात के विरुद्ध पंजीकृत किया गया था।विवेचना में अभियुक्त सतीश पुत्र छोटेलाल निवासी सिसहनिया थाना पुरन्दरपुर जनपद महराजगंज को मुखबिरी के सूचना पर हाड़ियाकोट चौराहे से समय 10:15 बजे गिरफ्तार किया गया । अभियुक्त द्वारा जुर्म स्वीकार किया गया है।हत्या का कारण थानाध्यक्ष बृजमनगंज मय हमराही मय वाहन सरकारी चालक के मुखबिर के साथ लेकर हाड़ियाकोट चौराहे पर कुछ दूरी पर खड़े एक व्यक्ति के तरफ इसरा करके मुखबिर वहां से हट गया।कि हम पुलिस द्वारा एक हिमाकत अमली से खड़े एक व्यक्ति को पकड़ लिया गया।नाम पता पूछने पर अपना नाम सतीश उर्फ भौलन पुत्र छोटेलाल विश्वकर्मा उम्र 32 वर्ष निवासी सिसहनिया थाना पुरंदरपुर बताया घटना का कारण पूछताछ करने पर आना कानी इधर उधर बात बताने लगा लेकिन जब कड़ाई के साथ पूछताछ करनेपर बताया कि 21 09 2020 को मैं अपनी मोटरसाइकिल लेकर करमहवा आया वहा से अपने छोटे साडू राजू पुत्र गौरी को मोटरसाइकिल पर बैठकर पुरंदरपुर आये तथा वहा से अपने छोटे साडू कमलेश पुत्र राजेन्द्र निवासी बारडाड टोला झिंगुरिजोत के वहा जाने हेतु लेहड़ा स्टेशन आये वहा से टेलीफोन के जरिये छोटे साडू कमलेश को लेहड़ा स्टेशन बुलाया मेरी मोटरसाइकिल को लेकर राजू कमलेश को लेने उसके घर जा रहा था। कि रास्ते में कमलेश मिल गये।जिन्हें मोटरसाइकिल पर बैठकर लेहड़ा स्टेशन आया हम तीनों साडू शराब भट्ठी से 6 सिशी बंटी बबली और मिट लियेऔर मिट खाकर दारू पीकर तीनो लोग मोटरसाइकिल पर बैठकर कमलेश के घर आये हम तीनों दारू पिये देख कमलेश की पत्नी दुर्गावती काफी गुस्सा में थी।खाना नहीं बनाई रात्री में मैं मेरा छोटा साडू राजू मोटरसाइकिल से अपने घर के लिए चल दिये। मोटरसाइकिल को राजू चला रहा था।दरू पीने के कारण मोटरसाइकिल बनगड़िया पेट्रोल पंप के सामने पश्चिम पटरी पर डिसबैलेंस होकर गड्ढे में चली गई।मेरा और राजू का अबैध सम्बन्ध कमलेश की पत्नी दुर्गावती से था। मैं अपने रास्ते से राजू को हटाना चाहता था।


मोटरसाइकिल से गरने के करण राजू बेहोश थे मैं मौका देखकर मैंने दाहिने हाथ से राजू का गला दबा दिया गमछा बाये हाथ से उसके मुंह पर रखकर दबाये रहा दबाने के कुछ देर बाद राजू के मुहं से पिला पिला झाग निकला  जिसे मैं गमछे से पोछकर गमछे को वही फेक दिया उसके बाद मैं काफी डर गया बदहवास की स्थिति में मेरा चप्पल मौके पर ही छूट गया रोड पर आकर मैं पैदल जंगल के रास्ते भाग गया तथा अगल बगल से पता कर रहा था।कि राजू मर गया या जिन्दा है।साहब मुझसे गलती हो गई।आज मैं भाग कर गोरखपुर जा रहा था।वहां से लखनऊ जाने के लिए सोचा रहा था। तबतक आप पकड़ लिए।अभियुक्त सतीश  उपरोक्त उसके अपराध का बोध करते हुए।करण गिरफ्तार बताकर समय करीब 10:15बजे दिन में हिरासत पुलिस के लिए गया।

Post A Comment:

0 comments: