*शरद वार्ष्णेय ॥अलीगढ़॥

सूत्रों के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के ज़िला अलीगढ़ के क़स्बा चंडौस के बैट मोहल्ला में गली के कुछ बच्चे गली में बैठे थे अचानक बन्दरो की टोली ने बच्चों पर हमला कर दिया।जिसमें रोहित तोमर नामक बच्चे पर एक बंदर ने उसे ज़मीन पर गिरा लिया और उस पर ऐसा हमला किया कि उसके शरीर पर काफ़ी नाखूनो के निशान दिखाई दिए बच्चे को काफ़ी खून भी निकले । लोगों में बन्दरो के आतंक का काफ़ी भय है इन दिनों बंदरों के आतंक से छोटे बच्चों से लेकर वृद्ध व महिलाएं डरी और सहमी हुई हैं। बंदर अब तक कई बच्चे, महिलाओं को हमला कर जख्मी कर चुके हैं। आबादी वाले इलाकों में बंदरों का आतंक इस कदर बढ़ गया है कि अभिभावकों ने बच्चों को घर से बाहर भेजने पर प्रतिबंधित लगा दिया है। ग्रामीणों ने बताया कि गलियों में बंदर गुटों में बैठे रहते हैं और आये दिन छोटे बच्चों व महिलाओं को जख्मी कर देते हैं। इसके अलावा घरों में पड़े सामान को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं।इतना ही नहीं ग्रामीण बंदरों के आतंक से इतने भयभीत हैं कि जब घरों से काम के लिए बाहर जाते हैं तो लाठी लेकर निकलते हैं। पिछले 2 माह में बंदर करीब 30 लोगों को अपना शिकार चुके हैं कृष्णा,यश भारद्वाज,युग एवं मोहल्ले के अन्य बच्चों से हुई बातचीत में पता चला जिन लोगों पर बन्दरो ने हमला किया उनके बच्चों की संख्या कहीं अधिक है। बंदर छत पर रखी पानी की टंकियों को तोड़कर ग्रामीणों की परेशानी और बढ़ा रहे हैं। बंदरों के आतंक के चलते ग्रामीण भयभीत हैं।बन्दरो का आतंक इस तरह बढ़ चुका है अगर कोई व्यक्ति ,बच्चा एवं महिलायें घर की छत पर टहलने या सोने चले जाए तो बन्दरो का झुंड उन पर हमला कर देता है लोगों के मुताबिक़ अगर कोई व्यक्ति घर की छत पर जाने का प्रयास करता है तो बंदर एकत्रित हो जाते हैं और जाने वाले व्यक्ति पर हमलावर हो जाते हैं।

*शरद वार्ष्णेय*
*रिपोर्टर *

Post A Comment:

0 comments: