रिपोर्टर सोहेल अहमद

ब्रेकिंग न्यूज:-

*कोर्ट ने सशर्त आदेश पर नियत तिथि तक सहमति न देने पर पत्नी के पक्ष में पूर्व पारित एकपक्षीय आदेश प्रभावी होने की रखी है शर्त*


*बगैर नियत तिथि बीते ही आदेश का अनुपालन कराने की पहल पर उठा सवाल*


*ससुर के घर पर लगा है ताला, लड़की के साथ मौजूद पुलिस*

----------------------------

सुल्तानपुर। घरेलू हिंसा के मुकदमे में हुए कोर्ट के सशर्त आदेश की बगैर नियत तिथि बीते ही कोतवाली नगर पुलिस ससुर के घर पहुंची बहू को कब्जा दिलाने, सिद्धार्थ नगर की कोर्ट ने पति के रहने के स्थान पर दोनों के बीच प्रेम-भाव बढ़ने व सुलह की संभावना बनाने के मद्देनजर हवादार कमरा मय बाथरूम उपलब्ध कराने की रखी है शर्त, आवास पर पति-पत्नी के साथ रहने के दौरान खाने पीने व जरूरी सामानों को उपलब्ध कराने अथवा प्रतिमाह छह हजार रुपये खर्चे के रूप में अदा करने की पति पर रखी है दूसरी शर्त, इन शर्तों से सहमत होने पर अपना जवाब आगामी 22 अक्टूबर को दाखिल करने की कोर्ट ने रखी है तारीख, इन शर्तों से सहमत न होने पर पूर्व में लड़की के पक्ष में पारित हो चुके एकपक्षीय आदेश को प्रभावी होने की कोर्ट ने आदेश में कही है बात, मामले में आकाश सोनी को आगामी 22 अक्टूबर को कोर्ट में अपनी सहमति के सम्बंध में जवाब देने के लिए मिली है तारीख, 22 तारीख तक शर्त पर सहमति न देने पर आकाश पर एकपक्षीय आदेश हो सकता है लागू, 22 को शर्त पर रजामंदी देने पर पारित नया सशर्त आदेश होगा लागू, कोर्ट ने आकाश पक्ष को सुनने के पश्चात साक्षी के पक्ष में हुए एकपक्षीय आदेश को सशर्त किया है अपास्त, नियत तारीख बगैर बीते साक्षी वर्मा पुलिस के साथ पहुँची ससुर के घर, सूत्रों की माने तो आकाश के पिता उसे अपनी संपत्ति से बेदखल कर देने की कर चुके है कार्यवाही, मिली जानकारी के मुताबिक सुल्तानपुर शहर में ही काफी समय से अपने माता पिता से अलग किराये के कमरे में रहता है आकाश, मिली जानकारी के मुताबिक साक्षी की इस कार्यवाही से ससुर की तबियत बिगड़ी, इसी के बाद से आकाश के घर के सदस्य ताला बंद कर हुए गायब, ताला बंद होने की वजह से पुलिस कानूनी रास्ता अपनाने की सोच में , बगैर 22 तारीख बीते पूर्व के एकपक्षीय आर्डर या नये पारित सशर्त आर्डर का होगा अनुपालन,संशय बरकरार, कानून के जानकारों की माने तो लड़की पक्ष को 22 तारीख की कोर्ट कार्यवाही का करना चाहिए इंतजार, कोतवाली नगर के मेजरगंज इलाके का मामला।



 

Post A Comment:

0 comments: