रिपोर्टर न्यूज़ ऑफ इंडिया सांगली महानगरपालिका मैं काम करने वाले लिपिक बाला साहब मल्लेवाडे की अफरा-तफरी

 नगर झोपड़पट्टी में घर देने के बहाने महानगरपालिका लिपिक बाला साहब मलेवाडे ने लोगों को गुमराह कर दिया सन दो हजार अट्ठारह को लोगों ने पास से ₹10000 से 25 लोगों के पैसे लेकर ने फंसा दिया है जब लोगों को पता चला कि यह हमें फंसा रहा है जब लोगों ने उन्हें पैसे वापस देने की मांग की तो उन्होंने देने से इंकार कर दिया जो मैंने पैसे लिया हूं वह काम कर दिया हूं ऐसा कह कर उन्हें लोगों को गुमराह कर दिया कहा कि मैं मेरा काम कर दिया हूं मैंने आपके नाम की लिस्ट निकाल दिया हूं आब मेरा काम जितना था उतना काम 

कर दिया हूँ बाकी महानगरपालिका का है ऐसा बोल कर लोगों को गुमराह कर दीया है 50 से 7 लोगों का नाम है इसमें से 20 लोगों का नाम आया है पर वह आज तक नहीं मिला है सन 2018 में लोगों ने कागजात जमा किए उसके बाद  2019 को पात्र करके लिस्ट आई 115 में से सिर्फ 47 जन का नाम आया है  लोगोंका नाम आया है पर लोग निराश हो गये हैऔर लोग निराश हो गए हैं ना घर दिये ना लिया हुआ पैसा इस लिये महानगर पालिका आयुक्त नितिन कपड़नीस साहब से निवेदन है जो गोर गरीब निराधार लोग बचत गट से पैसा लेकर महानगरपालिका लिपिक बालासाहेब मल्लेवाडी को दिया है वह पैसा वापस दे या फिर उन्हें मकान दे गरीब लोग दर-दर भटक रहे हैं उन्हें इंसाफ दो आप लोग गरीबों का दाता महानगर पालिका आयुक्त नितिन का पढ़ने साहब हमें इंसाफ दिलाएंगे ऐसा लोगों का कहना है लोगों ने मिरज इंदिरा नगर में हमें रहने की अनुमति दें जो भी शासन की फीस है हम भर देंगे हम बेबस हैं हम दर दर भटक रहे हैं किराए पर रहकर थक चुके हैं बस अब हमें इंसाफ दो आप लोग गरीबों का दाता आयुक्त नितिन कपड़णीस साहब हमें साथ देंगे ऐसा  कहकर लोगों ने नीरज इंदिरा नगर में हमें रहने की अनुमति थी  जो भी शासन की फीस है हम भर देंगे हम गरीब बेबस हैं  हम दर-दर भटक रहे हैं किराए पर रह कर थक चुके हैं बस हमें महानगरपालिका आयुक्त साब ही हमें इंसाफ देंगे लोगों का कहना है हमें ईसांफ  चाहिए मिरज इंदिरानगर झोपड़पट्टी मे

 हमे रहने की अनुमति दें जोगी शासन फीस है हम भर देंगे लोगों का कहना है हमें पैसा नहीं हमें हमारा घर चाहिए इंदिरा नगर झोपड़पट्टी में

न्यूज रिपोर्टर ऑफ इंडिया न्यू दिल्ली महाराष्ट्र सांगली जिला रिपोर्टर साहेबपीर पिरजादे



दिया हुआ है पैसा लेके

Post A Comment:

0 comments: