ब्यूरो चीफ सोहेल अहमद दिल्ली



जहां एक और अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार सफाई कर्मचारी वह दलित समाज के लोगों  की सुविधा के लिए इतना बखान करती है वही उन्हीं की सरकार  के सुंदर नगरी वार्ड 33-E की पार्षद विमलेश कोली सरकार को ही ठेंगा दिखा रही है सुंदर नगरी में नालों व नालियों की सफाई की जा रही है जिसके अंतर्गत वाल्मीकि समाज का भरपूर शोषण किया जा रहा है और साथ के साथ मानवता का भी हनन हो रहा है इन सफाई के दौरान जो चीज है सफाई कर्मचारियों को मिलनी चाहिए वह नहीं दी जा रही जैसे मास्क , गमबूट जूते , ग्लबज़ और सेफ्टी किट इन सब चीजों के बगैर कुछ भी अनहोनी हो सकती है जिसमें इन सफाई कर्मचारियों की जान भी जा सकती है जिस का खुला उल्लंघन  वार्ड नंबर 33-E की निगम पार्षद विमलेश कोली कर रही है इस संदर्भ में  ही  दिल्ली प्रदेश सफाई मजदूर यूनियन के अध्यक्ष जय भगवान चारण ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से लिखित शिकायत करी  है और एक शिकायत पब्लिक ग्रीवेंस के अंदर भी दर्ज कराई है उन्होंने इस मामले में बताया कि यह एक दुख की बात है की यहां के विधायक राजेंद्र पाल गौतम और निगम पार्षद विमलेश कोली खुद दलित समाज से आते हैं लेकिन उसके बावजूद वाल्मीकि समाज और  दलित समाज के लोगों के लिए काम करने की बजाय उनके शोषण में भागीदारी कर रहे हैं  सरकार को इस मामले का संज्ञान लेकर जल्द से जल्द इन दोनों पर कार्यवाही करनी चाहिए जिससे वाल्मीकि समाज को न्याय मिल सके और एक अच्छा संदेश  लोगों के बीच जाए  और सरकार को यह भी देखना चाहिए की सुंदर नगरी वार्ड नंबर 33-E  में जनता बहुत परेशान है ना  सैनिटाइजेशन होता है ना ही मच्छरों की दवाई  धिड़कवाई जाती है जिसकी वजह से इलाके में मच्छरों का प्रकोप है और ना ही सफाई करवाई जाती है  उसके साथ साथ मानवता का हनन जो इन सफाई कर्मचारियों के रूप में हो रहा है देखना यह है सरकार इस मामले में कब संज्ञान लेती है क्योंकि मामला उन्हीं के पार्षद विमलेश कोली का है

Post A Comment:

0 comments: