रिपोर्टर मनोज कुमार

महराजगंज - जिले के फरेन्दा थाना क्षेत्र के गणेश पुर में स्थित आधारशिला वृद्ध आश्रम में वृद्धजनों के जिंदगी का आधार बना। आपको बता दें कि आए दिन कितने लोग अपने माता पिता को आए दिन बच्चे ले जाकर अनाथ आश्रम छोड़ देते हैं उनका एक सहारा बनता है आधारशिला वृद्धा आश्रम जब की जिंदगी के अंतिम वर्षों मे हजारों वृद्धों के सामने अपने सिर से छत का साया छिन जाता है ऐसा ही एक मामला आज आधार शिला वृद्ध आश्रम गणेशपुर फरेंदा मे देखने को मिला करीब एक महीने पहले एक अज्ञात बुजुर्ग महिला को उसके परिवार वालो ने रामचौरा मे सुनसान सड़क पर उतार कर चले गये तबसे वो दर - दर भटक रही थी लेकिन आज लेखपाल निशा कन्नौजिया व कल्पना सिंह की मदद से  उनको आधारशिला बृद्धाश्रम गणेशपुर मे भर्ती कराया। मगर जिन बच्चो को मां बाप पाल पोस कर पढ़ा लिखा कर कुछ काबिल बनाते हैं क्या इसी दिन के लिये या जिंदगी के आखिरी दिन सुकून से गुजराने के लिए। वहीं उमेश गुप्ता ने बताया कि आधार शिला वृद्धाश्रम की जितनी तारीफ की जाए कम है। खासकर प्रबंधक प्रदीप कटियार की जिसने आज इस बुजुर्ग असहाय महिला को दो वक्त की रोटी, तन ढकने के लिए कपड़ा और मौसम की मार से बचने के लिए छत के नीचे रहने के लिए अपने आश्रम में बिना सोचे समझे रखने के लिए जगह दिए हैं उसके लिए मेरी तरफ से दिल के अनंत गहराइयों से बहुत बहुत धन्यवाद आज आधार शिला में जो प्यार मिला है शायद बुजुर्ग माता जी अपनों की चोट की टीस भूल जाएंगी।  माता पिता इसी उम्मीद से अपने पुत्र को पाल पोस बड़ा किए थे जो आज यह दिन देखने को मिल रहा है खैर भगवान की मर्जी। आपको बता दें कि आज प्रभु की इच्छा अनुसार इस वृद्ध महिला के पालनहार कहें या मार्गदर्शक लेखपाल निशा कनौजिया उमेश गुप्ता एसपी सहानी अशोक कुमार विश्वामित्र मिश्र  बनकर आए जो आज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बनकटी फरेन्दा में कोविड-19 जांच कराकर आधारशिला वृद्धा आश्रम प्रबंधक प्रदीप कटियार को सौंपा अब उनकी देखरेख आधारशिला वृद्धा आश्रम गणेशपुर में होगा।

Post A Comment:

0 comments: